कांकेर (ब्यूरो)। लंबे इंतजार के बाद मंगलवार रात गरज और तेज हवाओं के साथ सामान्य बारिश हुई। हालांकि थोड़ी ही देर बाद बारिश थम गई, लेकिन इससे लोगों को थोड़ी राहत जरूर महसूस हुई। लेकिन बुधवार को सूर्यदेव ने फिर तेवर दिखाए, जिससे दिनभर उमस से लोग परेशान रहे। हालांकि शाम के बाद आसमान पर छुटपुट बादल जरूर नजर आए, लेकिन बारिश नहीं हुई। इस वर्ष मानसून की दगाबाजी से सभी परेशान हैं। किसानों सहित आम लोगों को भी अच्छी बारिश का इंतजार है। इस वर्ष मानसून में काफी विलंब के चलते खेती काफी पिछड़ गई है। इसका प्रभाव सभी पर पड़ेगा।

जुलाई का महीना शुरू होने के बाद भी क्षेत्र में मानसून सक्रिय नहीं हो सका है। मानसून की देरी से सभी परेशान हैं। मंगलवार को शाम से ही बादलों ने आसमान में डेरा जमाना शुरू कर दिया था। इसके बाद रात लगभग आधे घंटे तक तेज हवाओं और गरज के साथ बारिश हुई। रात में हुई बारिश के बाद यह अंदाजा भी लगाया जा रहा है कि अब शीघ्र ही क्षेत्र में बारिश होगी। आसमान से बरसी राहत की बूंदों ने कुछ ही देर में मौसम बदल दिया। बारिश को लेकर अब तक के पूर्वानुमान गलत साबित हुए हैं और अब तक उत्तर बस्तर क्षेत्र में मानसून सक्रिय नहीं हो सका है। बारिश नहीं होने से क्षेत्र में सूखे जैसे हालात निर्मित हो गए हैं। बुधवार को भी दिनभर की खिली धूप बाद शाम को आसमान को बादलों ने ढंक लिया था।

किसानों को बंधी उम्मीद

बारिश की आस लगाए बैठे किसानों ने मंगलवार रात हुई बारिश से उम्मीद बढ़ गई है। मानसून में देर के चलते खेती के काम को लेकर वे असमंजस की स्थिति में हैं। हालांकि किसानों को उम्मीद है कि शीघ्र ही क्षेत्र में मानसून सक्रिय हो जाएगा और अच्छी बारिश होगी।

बारिश के बाद बढ़ी उमस

मंगलवार रात में हुई बारिश के बाद बुधवार सुबह तेज धूप खिल आई। आसमान पर बादलों का कहीं नामो निशान भी नजर नहीं आ रहा था। तेज धूप के कारण लोगों का उमस और गर्मी से एक बार फिर से बुरा हाल होता नजर आया। लोग बारिश का इंतजार करते रहे।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close