चारामा। राज्य सरकार प्रदेश के किसानों को वर्मीकंपोस्ट के रूप में अमानक खाद को लेने की बाध्यता समाप्त करने व किसान हित में अन्य मुद्दों के संबंध में राज्यपाल अनुसुइया उइके के नाम भारतीय जनता किसान मोर्चा ने अनुविभागीय अधिकारी को ज्ञापन सौंपा हैं।

प्रदेश उपाध्यक्ष किसान मोर्चा आलोक सिंह ठाकुर ने बताया कि विकास साढ़े तीन वर्षों से किसान विरोधी नीतियां चलाई जा रही है और प्रदेश में किसान अपने विभिन्ना समस्याओं को लेकर परेशान हैं, हालत यह है कि सैकड़ों किसान आत्महत्या कर चुके हैं ,वर्तमान में अभी किसानी का समय है और किसान को एक और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार किसानों को यूरिया खाद 625 रुपये प्रति क्विंटल उपलब्ध करा रही है, वही प्रदेश की भूपेश बघेल सरकार किसानों को अमानक और घटिया खाद रेत मिट्टी मिलाकर गोबर खाद लेने के लिए प्रति एकड़ तीन बोरी 90 किलो 1000 रुपये क्विंटल में लेने के लिए बाध्य कर किसानों को लूटने का काम कर रही है ।

जिससे प्रदेश के किसानों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है और किसान आगामी सीजन में खेती कर पाने में असमर्थ नजर आ रहे हैं क्योंकि छत्तीसगढ़ की पहचान किसानों से है और आज प्रदेश में किसानों के हालात बद से बदतर हैं, अमानक वर्मीकंपोस्ट खाद की बाध्यता से प्रदेश भर के किसानों की गाढ़ी कमाई गोबर के साथ मिट्टी में मिल जाएगी, जिससे किसानों के 700 रुपये करोड़ की डकैती राज्य सरकार द्वारा किया जाना वाला है, इसके अलावा प्रदेश सरकार द्वारा हाल ही में जारी राजीव गांधी न्याय योजना के अंतिम किस्त की राशि में 30 से 50 प्रतिशत तक की कटौती करते हुए करीब 470 करोड़ की राशि किसानों को कम जारी की गई है, इस अंतर की राशि को तत्काल किसानों को जारी किया जाए।

प्रदेश सरकार राज्य में सरकार बनने से पहले किसानों का दाना दाना खरीदने का वादा किया गया था, क्योंकि छत्तीसगढ़ में रवि की फसल भी पर्याप्त मात्रा में होती है अतः पूरे प्रदेश में किसानों के रवि की फसल की खरीदी 2500 रुपये प्रति क्विंटल से तत्काल प्रारंभ की जाए। राज्य सरकार द्वारा सरकार बनने से पहले की गई घोषणा पत्र के आधार पर पूर्व के दो वर्षों का धान का बोनस देने का वादा किया गया था, किंतु राज्य सरकार आज तीन वर्षों के बाद भी किसानों का बोनस बकाया है, जिसे तत्काल जारी किया जाए।

राज्य सरकार प्रतिवर्ष गिरदावरी के नाम पर किसानों के रकबा में लगातार कटौती कर रही है कहीं मेड काटे जा रहे हैं कहीं खेती कर दिया जा रहा है जिसे पूरे प्रदेश के किसान आक्रोशित हैं किसानों के संपूर्ण खेती हार के हिसाब से धान की खरीदी किया जाए, को लेकर किसान मोर्चा के द्वारा ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन सौंपने के दौरान खेम तिवारी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य किसान मोर्चा, उत्तम साहू, ओम प्रकाश साहू, गोपाल दुर्गासी, ललित गजेंद्र, रमेश सोनकर, संजय सिन्हा, नंदकिशोर गौतम, तुलसी माली सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local