कांकेर। अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिवस का आयोजन प्राथमिक शाला डोंगरीपारा कोदाभाट में किया गया, जिसमें राजीव गांधी शिक्षा मिशन, शिक्षाविभाग और समाज कल्याण विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कर दिव्यांगजन बालक-बालिकाओं का खेलकूद प्रतियोगिता आयोजित कर उन्हें पुरस्कृत किया गया। प्रतियोगिता में रंगोली, चित्रकला, मटका फोड़, कुर्सी दौड़, जलेबी दौड़, 50 मीटर दौड़, लंबी कूद, गोला फेंक और साफ्ट बाल थ्रो आदि खेलकूद आयोजित कर बच्चों को प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया।

अंतरराष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस कार्यकम के मुख्य अतिथि संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी ने आयोजित सभा को संबोधित करते हुए कहा कि दिव्यांगजन असंभव को पराजित कर अपने जीवन को सफल बनाने में कामयाब होते हैं। ईश्वर की बड़ी माया है, दिव्यांगजनों को जन्म से ही ऐसी सृष्टि की रचना की है वे निर्थक नहीं हैं, उन्हें पहचानने की आवश्यकता है। इनमें कोई न कोई ऐसी कला होती है और आगे बढ़ने का हौसला भी बुलंदी पर है। शोरी ने कहा कि दिव्यांगजन संघर्ष से जीते हैं, जिससे उन्हें दृढ़ता आता है और असंभव को भी संभव बना देते हैं।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जिला पंचायत के अध्यक्ष हेमंत कुमार ध्रुर्वे ने कहा कि शासन की योजनाओं को हर संभव दिव्यांगजनों तक पहुंचाने की जरूरत है, जिससे उन्हें योजनाओं का लाभ मिल सके। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से अपील करते हुए कहा कि स्वास्थ्य मेला लगाकर उनके जीवन को सफल बनाने के लिए सहयोग करें। कार्यक्रम को जनपद उपाध्यक्ष रोमनाथ जैन ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम पश्चात संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी और जिला पंचायत के अध्यक्ष हेमंत ध्रुव ने कोदाभाट स्थित श्रवण बाधित विद्यालय का अवलोकन भी किया। इस अवसर पर सरपंच कोदाभाट ईश्वरी नेताम, पंच मुकेश्वरी नाग, सुकबाई कावड़े, अमृता भास्कर, समाज कल्याण विभाग के उपसंचालक सिनीवाली गोयल, कमल यदु, त्रिलोचन साहू, उमाशंकर गंजीर, शरद यादव, विजयनाग, दिनेश कवाची सहित शिक्षकगण उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local