कांकेर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में एड्स से अब तक 113 मरीजों की मौत हो चुकी है। जिले में पिछले 17 वर्षों में 313 मरीज एचआइवी पाजीटिव पाए गए हैं। सरकारी प्रयास और लोगों में जागरूकता के चलते हालांकि पिछले कुछ वर्षों में एचआइवी पीड़ितों की संख्या में कमी आई है।

जिला चिकित्सालय में 2003 से आइसीटीसी केंद्र प्रारंभ होने के बाद से एचआइवी की जांच की जा रही हैं। यहां गर्भवती माताओं के अलावा लक्षण दिखाई देने के बाद सामान्य जांच की जाती है। अब तक हुई एचआइवी जांच में 313 मरीज पाजिटिव पाए गए हैं। जिसमें 194 पुरुष व 119 महिलाएं शामिल हैं।

दूसरी ओर जिले में अब तक 113 एड्स संक्रमित मरीजों की मौत भी हो गई है। जिसमें 76 पुरुष व 37 महिलाएं शामिल हैं। जिले में चार समेकित परामर्श एवं जांच केंद्र कांकेर, भानुप्रतापपुर, पखांजूर व चारामा में संचालित हैं। यहां नियमित रूप से गर्भवती माताओं व सामन्य लक्षण पाए जाने पर मरीजों की एचआइवी जांच की जाती है। साथ ही जिले के दस सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ केंद्र नरहरपुर, सरोना, अमोड़ा, धनेलीकन्हार, हल्बा, कापसी, बांदे, अंतागढ़, दुर्गूकोंदल, आमाबेड़ा में 2013 से एचआइवी जांच की व्यवस्था की गई है। जहां गर्भवती माताओं और टीवी मरीजों की एचआइवी जांच की जाती है। पाजिटिव आने के बाद आईसीटीसी केंद्र में दोबारा जांच कर रिपोर्ट की पुष्टि की जाती है।

बाक्स

दवा नहीं लेते कई मरीज

एड्स के मरीजों के लिए एंट्री रेट्रो वायरल थैरेपी निश्शुल्क उपलब्ध कराई जाती है। लेकिन कई मरीज दवाई लेने ही नहीं पहुंचते है और कई बीज में ही दवाई लेना बंद कर देते हैं, तो कई ऐसे मरीज है, जो जांच में एड्स संक्रमित पाए जाने के बाद दवा ही नहीं लेते हैं। वर्तमान में जिले में 189 मरीज हैं, जो नियमित दवाएं ले रहे हैं, जिसमें 124 पुरुष व 65 महिलाएं हैं। इनमें से कुल 50 मरीज जिला अस्पताल में स्थापित लिंक एआरटी के माध्यम से दवाएं ले रहे हैं और 51 मरीज ऐसे है, जो दवाइयां नहीं ले रहे हैं या बीच में दवाइयां बंद कर दी हैं। जिसमें 26 पुरुष व 25 महिलाएं शामिल हैं।

बाक्स

मरीजों को मिल रही सुविधाएं

एड्स मरीजों को शासन की ओर सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। जिसमें एड्स के मरीजों को बसों में मुफ्त सफर और सहयात्री को यात्री किराये में 50 प्रतिशत छूट दी जाती है। राशन कार्ड बनवाया जाता है। साथ ही हाउसिंग बोर्ड का मकान खरीदने में 20 फीसद की छूट दी जाती है। एड्स के मरीजों को तीन सौ रुपये पेंशन राशि भी प्रदान की जाती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस