छोटेकापसी। बड़े कापसी लैंपस प्रभारी प्रबंधक पार्थ देवनाथ पर करोड़ों रुपये के हाई ब्रीड बीज वितरण कर ब्याज अनुदान की राशि में गड़बड़ी के लगे आरोप के मामले में संयुक्त पंजीयक जगदलपुर एलएल बृंझ द्वारा जांच आदेश को स्थगित कर दी गई है। ज्ञात हो कि उनके द्वारा ही बड़े कापसी लैंपस प्रभारी प्रबंधक पार्थ देवनाथ के खिलाफ हाई ब्रीड बीज वितरण में करोड़ों रुपये के घोटाले मामले में एक माह पूर्व जांच के आदेश दिए गए थे।थ

फिर अचानक एक माह बाद जांच के आदेश को स्थगित कर दिया गया है। बस्तर संभाग जगदलपुर संयुक्त पंजीयक अपने दो दिवसीय प्रवास पर 11 जनवरी को कापसी पहुंचे थे। बड़े कापसी स्थित वन विभाग के विश्राम गृह में नईदुनिया संवाददाता से संयुक्त पंजीयक से रूबरू हुए और हाई ब्रीड बीज के हाई प्रोफाइल मामले में कुछ सवाल जवाब किए गए।

जब उनसे पूछा गया कि आपके अचानक कापसी दौरा कैसे हुआ?, तो इस पर उन्होंने कहा कि धान खरीदी का सीजन है। पानी गिर रहा है। केंद्रों में सावधानी बरती जा रही है कि नहीं इसका निरीक्षण करने आया हूं।

इस दौरान उनसे जब पूछा गया कि पंजीयक छत्तीसगढ़ शासन रायपुर के आदेश का उल्लंघन करते हुए लैंपस प्रभारी प्रबंधक पार्थ देवनाथ ने हाई ब्रीड बीज वितरण की राशि को ब्याज अनुदान में जोड़कर शासन की ओर प्रस्तुत कर राशि प्राप्त कर लिया है?, तो उन्होंने कहा कि मुझे लैंपस प्रभारी प्रबंधक बड़े कापसी ने बतलाया कि पंजीयक कार्यालय रायपुर का आदेश हमें प्राप्त ही नहीं हुआ है। इसी कारण व्याज अनुदान की राशि शासन की ओर प्रस्तुत किया गया है, चूक तो हुई है कार्रवाई तो होगी। उनसे जब पूछा गया कि जांच कब होगी। तो उन्होंने कहा कि धान खरीदी के बाद दो टीम गठित कर जांच होगी, एक टीम पंजीयक रायपुर, दूसरी टीम बस्तर संभाग से होगी। जांच उपरांत दोषी पाए जाने पर दोषियों पर कार्रवाई होगी।

विभाग में मचा हड़कंप

इस पूरे मामले में संयुक्त पंजीयक प्रभारी प्रबंधक को बचाने का प्रयास कर रहे र्हं। पंजीयक कार्यालय रायपुर से आदेश क्रमांक 3282 वर्ष 2015 में आदेश निकला था। जिला सहकारी बैंक कापसी के बीएम नरेंद्र कुमार शर्मा ने कहा था कि हमें वो आदेश मिला है। और प्रभारी प्रबंधक से व्याज अनुदान की राशि प्रस्तुत करने में चूक हुई है। प्रभारी प्रबंधक जांच न होने के लिए जोड़तोड़ के जुगाड़ में लगे हैं। संयुक्त पंजीयक ने बिना जांच करवाएं ही बता दिए कि 8.60 लाख की गड़बड़ी है। पर पैसा कोई नहीं खाया, समिति शासन को वापस लौटा देगी। इससे पहले सब कुछ ठीक चल रहा था। नईदुनिया में खबर प्रकाशित होते ही पूरे विभाग में हड़कंप मच गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local