कांकेर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पैसा डबल करने के नाम पर कालेज की छात्रा से साढ़े चार लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। युवती द्वारा पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद पुलिस ने आरोपित युवक के खिलाफ अपराध पंजीबद्घ कर जांच शुरू कर दी है।

जिले के चारामा क्षेत्र के ग्राम मरकाटोला निवासी इंदुबाला टांडिया ने पुलिस थाना चारामा में रिपोर्ट दर्ज कराई किवह बीएससी फाईनल की पढाई कर रही है। उसने बताया किउसके मोबाईल पर आकाश वमर नाम के व्यक्ति का काल आया था, जिसने स्वयं को मुंबई का रहने वाला बताया था। उक्त व्यक्ति अपने मोबाईल से 12 अगस्त 2021 से लगातार फोन करता रहा और पैसा डबल करने का झांसा देकर मुझे गुमराह कर लगातार फोन करके अपने अकाउंट पर पैसा जमा कराने की बात कहता था।

उसके झांसे में आकर मैंने उसके द्वारा दिये गए बैंक अकाउंट नंबरों में पैसा उनके बताए अनुसार डबल होने की उम्मीद से ग्राहक सेवा केन् मरकाटोला के माध्यम से जमा कराते गई। आकाश वमर ने 19 मई 2022 को फिर से मुझे फोन किया था और अभी भी पैसा जमा कराने के लिए कहा जा रहा है। मैंने 12 अगस्त 2021 से 23 अप्रैल 2022 तक आकाश वमर द्वारा दिए गए विभिन्न बैंक खाते में 4,50,000 रुपये की राशि अब तक जमा कर चुकी हूं।

उसके बाद भी 19 मई 2022 को और पैसा जमा कराने की बात कही जा रही है। जिससे मैं तंग आ गई हूं। आकाश वमर को दिये पैसों को वापस मांगने पर आकाश वमर द्वारा पैसा वापसी से साफ मना कर रहा है और पैसा वापस नहीं करने की बात कह रहा है। जिससे मैं मानसिक व आर्थिक रूप से परेशान हो गई और इस संबंध में अपने परिजनों को जानकारी दी। थाना प्रभारी नितिन तिवारी ने बताया कि युवती ने पैसे डबल करने का झांसा देकर साढ़े चार लाख रुपये की ठगी करने की शिकायत की है, जिस पर आरोपित के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्ध कर मामले की जांच की हा रही है।

मां के इलाज के लिए रखे थे पैसे

पैसे डबल करने का झांसा देकर युवती के साथ ठगी की गई है। बताया जा रहा है कि कालेज में पढ़ने वाली छात्रा के पिता सेवा निवृत्त कर्मचारी है और उनकी पत्नी का स्वास्थ खराब होने के कारण उनके उपचार के लिए बैंक से पैसे निकालकर घर पर रखे थे। लेकिन युवती राशि डबल करने के झांसे में आ गई और मां के इलाज के लिए घर में रखे साढ़े चार लाख रुपये को अंजान व्यक्ति के कहने पर खाते में जमा करा दिये।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close