कांकेर। छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीट में सबसे छोटी जीत का सेहरा कांकेर लोकसभा सीट के सिर पर बंधा। भाजपा उम्मीदवार मोहन मंडावी और कांग्रेस उम्मीदवार बीरेश ठाकुर के बीच पहले चरण से ही कांटे का मुकाबला देखने को मिला। शुरुआती चार राउंड की गणना तक कांग्रेस उम्मीदवार बीरेश ठाकुर बढ़त बनाए हुए थे, लेकिन आखिरी चरण में मोहन मंडावी ने कछुए की गति से बढ़त बनाना शुरू किया। लेकिन, अंतिम परिणाम में मंडावी सबसे छोटे अंतर से जीत दर्ज करने में सफल रहे। बता दें कि, इस सीट पर 18 अप्रैल को दूसरे चरण में वोट डाले गए थे। कांकेर में कुल 09 प्रत्याशी मैदान में थे। राज्य बनने के बाद से अब तक हुए तीनों आम चुनाव में कांकेर में मतदान का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है। पिछले चुनाव में वहां 70 फीसद से अधिक मतदान हुआ था। 2009 में 57 और 2004 में 48 फीसद वोट पड़े थे।

कांकेर राजधानी रायपुर और जगदलपुर के बीच स्थित है। कांकेर संसदीय सीट नक्सली हिंसा से प्रभावित रहा है। पहले कांकेर पुराने बस्तर जिले का ही एक हिस्सा हुआ करता था, लेकिन 1998 में कांकेर को एक जिले के तौर पर पहचान मिली। 1996 तक ज्यादातर कांग्रेस ने यहां से निर्विरोध जीत हासिल की, लेकिन 1998 से बीजेपी सभी 5 चुनाव जीतते आ रही है।

छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों में से एक कांकेर सीट अनूसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित है। आजादी के बाद 1952 से अब तक यहां कुल 16 चुनाव संपन्न हुए। 1999 तक यह लोकसभा सीट मध्य प्रदेश के अंतर्गत आती थी। साल 2000 में मध्यप्रदेश के विभाजन के बाद बने छत्तीसगढ़ के अंतर्गत आने के बाद यहां से तीन लोकसभा चुनाव हो चुके हैं। भाजपा ने यहां से वर्तमान सांसद विक्रमदेव उसेंडी का टिकट काटकर मोहन मंदावी को इस बार मैदान में उतारा था

किस सीट पर कितने प्रत्याशी

महासमुंद 13

राजनांदगांव 14

कांकेर 09

संसदीय सीट पुस्र्ष महिला तृतीय कुल

कांकेर 766032 786010 33 1552075

यह भी पढ़ें...

Bastar Lok Sabha Result 2019: भाजपा प्रत्याशी बैदूराम से इतने आगे चल रहे हैं कांग्रेस के दीपक बैज

Raipur Lok Sabha Result 2019 : भाजपा प्रत्याशी सुनील सोनी फिर आगे

Bilaspur Lok Sabha Result 2019 : शुरुआती रूझान में बिलासपुर सीट पर कांग्रेस आगे

Raigarh Lok Sabha Result 2019 : भाजपा प्रत्याशी गोमती साय ने 1100 मतों से बनाई बढ़त, कांग्रेस को छोड़ा पीछे

Posted By: Sandeep Chourey