कांकेर(नईदुनिया प्रतिनिधि)

कोरोना से बचाव को लेकर लॉकडाउन के दसवें दिन पुलिस प्रशासन सख्ती बरतते नजर आया। शहर के मुख्य मार्ग पर पुलिस की नजर बनी रही। बेवजह सड़कों पर घूमने वालों के साथ पुलिस ने सख्ती से पेश आई। सड़कों घुम रहे लोगों से पुलिस दिनभर पूछताछ करती रही और बेवजह घुमते पाए जाने पर उन्हें घर में रहने की समझाइश दी गई।

सोशल डिस्टेंसिग के जरिए कोरोना की चैन तोड़ने को लेकर चल रहे सरकारी प्रयासों को अमलीजामा पहनाने का प्रयास लगातार चल रहा है। सरकारी मशीनरी इसे लेकर गंभीर है। पुलिस कर्मियों को भी बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। पुलिस कर्मी दिन रात सड़कों पर घूमकर बेवजह हवाखोरी करने वालों पर निगाह बनाए हुए हैं। हर हाल में सोशल डिस्टेंसिग को सफल बनाने का प्रयास किया जा रहा है। शहर में अब तक लॉक डाउन का उल्लंघन कर सड़कों पर घुमते लोगों के साथ पुलिस नरमी से पेश आ रही थी। लेकिन पुलिस की नरमी के बीच घर से हवाखोरी के लिए निकलने वालों की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही थी और लोग बिना किसी काम के भी सड़कों पर घुमते नजर आने लगे थे। सड़कों पर लोगों की संख्या बढ़ने साथ ही सोशल डिस्टेंशिग का प्रयास भी सफल होता दिखाई नहीं दे रहा था। जिसके चलते अब पुलिस ने बिना कारण के घर से बाहर निकलकर शहर की सड़कों पर घुमने वालों के खिलाफ सख्ती शुरू कर दी है। शनिवार को पुलिस ने थाने के सामने सड़क पर आने जाने वालों की जांच शुरू की। इस दौरान उनके घर से बाहर निकलने का कारण की जानकारी भी पुलिस ने ली। साथ ही उनके आइडी कार्ड व वाहनों के दस्तावेज की जांच भी की। थाना प्रभारी नरेश दीवान ने बताया कि लॉक डाउन का पालन कराने के लिए थाने के सामने ही कैंप लगाकर वाहनों की जांच की गई। जिसमें यह भी देखा गया कि होम आइसोलेशन में रखा गया कोई व्यक्ति प्रोटोकाल का उल्लंघन कर शहर में घुम तो नहीं रहा है। हालांकि इस दौरान ऐसा कोई व्यक्ति नहीं मिला। साथ ही लोगों से उनके घर से निकलने का कारण पूछा गया और बिना कारण घर से निकलने वालों को घर लौटने और घर पर ही रहने की हिदायत दी गई।

बाक्स

शाम होते ही मोहल्लों में लगता है चौपाल

एक ओर शासन प्रशासन लॉक डाउन के दौरान इस बात का प्रयास कर रहा है कि लोगों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे। लेकिन कुछ लोग शासन-प्रशासन के इस प्रयास के सफल होने में बाधक बन रहे हैं। देखा गया है कि पुलिस शहर की मुख्य सड़कों व चौक-चौराहों पर नजर रखती हैं, लेकिन गलि मोहल्लों तक पुलिस नहीं पहुंच पाती है, जिसके चलते शाम होते ही शहर के अधिकांश मोहल्लों की चौक पर लोगों की चौपाल लग जाता है। बड़ी संख्या में लोग एकत्रित होकर सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करते हैं। साथ ही यह भी देखा गया है कि पुलिस की पेट्रोलिंग वाहन के देखकर भाग खड़े होते हैं और कुछ देर बाद फिर से जमघट लग जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस