0- जिले के 28,613 पशुओं के लिए बनाए जा रहे 83 गौठान

कांकेर। नईदुनिया न्यूज

जिला पंचायत के सीईओ डॉ. संजय कन्नैजे ने बताया कि कलेक्टर केएल चौहान के मार्गदर्शन में सुराजी योजना के तहत जिलें में 83 गौठान प्रथम चरण में बनाए जा रहे हैं। प्रत्येक विकासखण्ड में एक-एक मॉडल गौठान बनाकर वहां पशुओं के लिए सर्वसुविधायुक्त पानी, सोलर पम्प, पानी टंकी, कोटना, चबूतरा, गौठान व चारागाह के चारों तरफ फेसिंग, पशुओं के लिए चारा स्वसहायता समूहों के आर्थिक रूप में सुदृढ़ गौठानों में 30-30 वर्मी कम्पोस्ट खाद के पैड बनाये जा रहे है।

जिले के प्रत्येक विकासखण्ड मे एक-एक मॉडल गौठान बनकर तैयार हो गया है। पशुओं के लिए गौठान में सर्वसुविधायुक्त व्यवस्था की गई है। इसमें पानी, कोटना, चबूतरा, फेसिंग, चारे की व्यवस्था की गई है। वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाकर महिलाएं अर्थिक रूप से सशक्त हो रही है। गौठान के माध्यम से ग्रामीण आर्थिक व्यवस्था व रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये जा रहे हैं। जिले में 28,613 पशुओं के लिए 83 गौठान, चारागाह बनाए जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ शासन की चार चिन्हारी नरवा, गरुवा घुरूवा व बाड़ी योजना कांकेर जिले में सार्थक हो रही है।

मॉडल गौठानों में गौठान के संचालन के लिए ग्राम गौठान समिति का गठन किया गया है। गौठानों में सर्व सुविधायुक्त होने से गांव वाले में अतिउत्साह देखने को मिल रहा है। वे अपने गाय, पशुओं को गौठानों में भेजने लगे हैं। जिले के 76 गौठानों में कार्य तीव्रगति से प्रगति पर है। इन गौठानों में दो-दो सौ व चारागाह में 15 सौ से दो हजार गढ्ढे कर फलदार पौधा रोपण करने की तैयारी की जा रही है। ताकि वहां गौठान प्राकृतिक रूप से छायादार रहे व प्रति पेड़ देखरेख के हिसाब से मनरेगा के तहत समूह की महिलाओं को भी आमदनी प्राप्त हो सके।

जिला पंचायत के सीईओ डॉ. संजय कन्नौजे के निर्देशन पर प्रथम चरण में 83 गौठान व चारागाह स्वीकृत किए गए थे, जिसमें जिले के 275 एकड़ में गौठान निर्माण किया जा रहा है, जिसमें 28,613 जानवर रहेंगे। सुराजी योजना के तहत जिले के चिन्हाकित गांवों में शत प्रतिशत बाड़ी योजना के तहत नए व पुराने बाड़ी का निर्माण, घुरूवा योजना के तहत नाडेप टंकी, घरूवा उन्नयन, भूनाडेप व उस गांव में अन्य नरवा और नाले के जीर्णोधार के कार्य किए जा रहे हैं, जिनके क्रियान्वयन के साथ ग्रामों में मनरेगा के तहत बाड़ी, घुरूवा, नरवा के कार्य स्वीकृत कर बनाये जा रहे हैं। जिला पंचायत के सीईओ ने नरहरपुर विकासखण्ड के मॉडल गौठान मानिकपुर, लखनपुरी का निरीक्षण कर मॉडल गौठान में जानवरों, पशुओं के लिए सर्वसुविधा युक्त व्यवस्था व चारे के लिए नेपियर घास को देखकर प्रसन्नचित हुए।

उन्होंने मानिकपुर मॉडल गौठान में ग्रामीणों व समूह की महिलाओं की सक्रिय भागीदारी से यहां पर 80 जानवर गौठान में आने लगे है। मानिकपुर के सरपंच ने बताया कि मॉडल गौठान बनने से ग्रामीणों में खुशी की लहर है। डॉ. कन्नौजे ने मनरेगा के तहत गौठान में निर्मित पुराने डबरी को गहरीकरण कर वहां महिला समूह को मछली पालन कराने के निर्देश जनपद पंचायत के सीईओ को दिए।

-------------

Posted By: Nai Dunia News Network