पखांजूर। कोयलीबेड़ा विकासखंड के ग्राम पंचायत यशवंत नगर में भ्रष्टाचार की शिकायत अनुविभागीय अधिकारी के पास किए जाने के बाद मामले की जांच के लिए टीम पहुंची थी। लेकिन इस दौरान सरपंच समर्थकों व विरोधियों के बीच विवाद की स्थिति निर्मित हो गई। विवाद बढ़ने के बाद जांच दल अपने कार्रवाई पूरी किए बिना ही वापस लौट गया। हालांकि दोनों पक्षों से आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है।

यशवंतनगर पंचायत के ही कुछ ग्रामीणों ने पंचायत के कार्यों में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए शिकायत की थी। शिकायत के बाद जांच दल का गठन किया गया था। शिकायत की जांच करने के लिए दल ग्राम पंचायत यशवंत नगर पहुंचा था। चार सदस्यीय टीम में आरइएस एसडीओ वीपी टंडन, आनंद दुग्गा कार्यक्रम अधिकारी मनरेगा, बीआर नायक वरिष्ठ लेखपाल, मृणाल सिकदर ब्लाक समन्वयक टीम में थे। टीम जब जब पंचायत भवन पहुंची तो पहले ही बड़ी संख्या में सरपंच समर्थक व विरोधी मौजूद थे। सरपंच के समर्थन में बड़ी संख्या में महिलाओं ने पंचायत भवन के बाहर प्रदर्शन किया और हाथों में उन्होंने तख्तियों भी थाम रखी थी। जिसमें सरपंच पर लगाए गए आरोपों को निराधार बताया जा रहा था। वहीं, दूसरा पक्ष भी वहां मौजूद था। जिसके द्वारा सरपंच पर भ्रष्टाचार का आरोप लगया था। जिसके चलते दोनों पक्ष में विवाद बढ़ने लगा। विवाद बढ़ता देखकर जांच टीम को जांच का कार्य पूरा किए बिना ही वापस लौटना पड़ा।

क्या कहते हैं समर्थक

बड़ी संख्या में सरपंच के समर्थक वहां मौजूद थे। ग्रामीण पुष्पा मंडल, वंदना हालदार, गंगा दत्ता, मंजू सरकार, नमिता सरकार ने कि सरपंच पर झूठा आरोप लगाकर उनको बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है। जिस मामले की बात की जा रही है वो लगभग सात साल पुरानी है। इसके बाद कई बार सोशल आडिट हो चुकी है। अगर सरपंच द्वारा किसी भी प्रकार का घोटाला किया गया होता, तो आडिट के समय उजागर हो जाता। आपसी रंजिश के चलते सरपंच को बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है।

सरपंच ने आरोपों को बताया निराधार

ग्राम पंचायत यशवंत नगर की सरपंच सीमा विश्वास ने उन पर लगाए जा रहे आरोपों को पूरी तहर से निराधार बताते हुए कहा कि सात वर्ष पहले के कार्य को लेकर उनके खिलाफ शिकायत की जा रही है। पंचायत में उनके समर्थन को देखकर शिकायतकर्ता बौखला गए। सरपंच ने कहा कि उनके समर्थन में पहुंची एक महिला के साथ छेड़खानी की घटना भी हुई थी, जिसके कारण ही विवाद हुआ। जिस महिला के साथ छेड़खानी हुई है, उसने इसकी शिकायत पुलिस में भी की है पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने कहा कि मंगलवार को उन्हें गांव के ही चार युवकों द्वारा जान से मारने की नियत से रास्ता रोका जा रहा था। जिसकी शिकायत भी पुलिस से की गई है। इस संबंध में पखांजूर थाना प्रभारी मोरध्वज देशमुख ने बताया की ग्राम पंचायत यशवंतनगर के सरंपच द्वारा शिकायत दी गई है। मामले की जांच की जा रही है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close