0- जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों ने लगाया मर्दापोटी में चौपाल,

कांकेर। नईदुनिया न्यूज

जिले के वरिष्ठ अधिकारी व जनप्रतिनिधियों ने ग्राम मर्दापोटी में चौपाल लगाकर ग्रामीणों को वनों की सुरक्षा करने, उसे समृद्ध करने और वनोपज से आमदनी प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया। चौपाल में विधायक, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी, जिले के कलेक्टर केएल चौहान और वनमण्डाधिकारी अरविंद मौजूद थे। वनोपज सहकारी समिति मर्दापोटी के अंतर्गत आने वाले ग्रामों-गढ़पिछवाड़ी, पथर्री, नवागांव-भावगीर, घोटिया, ईच्छापुर, आमाझोला, मर्दापोटी, ईरादाह, जिवलामारी, मलांजकुडूम, कलमुच्चे और मर्रापी के वनोपज सहकारी समिति के सदस्यों व ग्रामीणों मौजूद थे।

विधायक व मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी ने कहा कि यह क्षेत्र वनों से आच्छादित व प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर है, जिसका संरक्षण करना और उसे बढ़ाना आवश्यक है। ग्रामीणों को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने कहा कि आज से कुछ साल पहले यह क्षेत्र घने वनो से घिरा हुआ था, शाम के समय गांवों के पास जंगली जानवर भी देखने को मिल जाते थेए जो अब विलुप्त होने के कगार पर पहुंच चुके है। हम सबकी जिम्मेदारी है कि हम सब मिलकर वनों को बचायें तथा वनोपज से लाभ कमायें।

उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में लगभग 18 करोड़ रूपये का वनोपज जैसे- आंवला, हर्रा, बेहड़ा, शहद, चार, गिलोय, माहूल पत्ता, हथजोड़, बायबिडिंग, बोदेल पलाश बेल, धंवई फूल, शतावर दसमूल कंद, भेलवा, कुल्लू, जामुन, ईमली इत्यादि प्रकार के वनोपज होता है, जो ग्रामीणों की आमदनी का बढिय़ा साधन बन सकता है। उन्होंने कहा कि ग्रामीणजन अपने निजी भूमि अथवा गांव के राजस्व भूमि या वन भूमि में हर्रा, बेहड़ा ईमली, चार, जामुन, महुआ, कुसुम, बेर, खम्हार, भेलवा, आंवला, सागौन, साल, बीजा आदि ऐसे पौधें को लगाए जो पहले बहुतायत मात्रा में पाये जाते थे, लेकिन अब विलुप्त या कम हो गए है, उनका पौधारोपण करें और उसे बचायें।

बहुतायत मात्रा में वनोपज पाए जाने पर प्रसंस्करण की व्यवस्था होगी, जिससे ग्रामीणों को वनोपज से ज्यादा से ज्यादा लाभ प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि आय के साधन बढेंगे तो लोग आत्म निर्भर होंगे और उनके जीवन में खुशहाली आयेगी। उनके द्वारा खेत के मेड़ में बेर पेड़ लगाकर उसमें लाख पालन करने की समझाईश भी ग्रामीणों को दिया गया।

कलेक्टर केएल चौहान ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि गांवों के संसाधन को बचायें, उसे समृद्ध करें और खुद भी समृद्ध बनें। गांव को हराभरा बनाये, इसके लिए जरूरी है कि हम पौधरोपण करें और उसका संरक्षण भी करें, वनोपज ग्रामीणों की आय का बहुत बड़ा जरिया बन सकता है। शासकीय योजनाओं से लाभ उठाने का अनुरोध भी उनके द्वारा ग्रामीणों से किया गया। ग्राम गढ़पिछवाड़ी के तुलाराम मरकाम ने भी ग्रामीणों को वनों की सुरक्षा करने और उसे आय का जरिया बनाने के लिए ग्रामीणों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि यदि हम ऐसा कर पाते है, तो हमें काम की तलाश में बाहर नहीं जाना पड़ेगाए गांव में ही रोजगार के साधन उपलब्ध है।

इस अवसर पर सहभागी समाज सेवी संस्था के अध्यक्ष बसंत यादव, जनपद सदस्य राजेश भास्कर, सरपंच मर्दापोटी गीता गावड़े, सरपंच ईरादाह दीपक नेताम, रमाशंकर दर्रो, तरेन्द्र भण्डारी, सरपंच ईच्छापुर प्रतिभा तेता, सरपंच नवागांव भावगीर नरसू मण्डावी, सरपंच मरकेशरी ममता शेरवें, सरपंच गढ़पिछवाड़ी गोविन्द दर्रो, सहायक कलेक्टर रेना जीमल, एसडीएम कांकेर उमाशंकर बंदे, अनुविभागीय अधिकारी वन मण्डावी, तहसीलदार कांकेर मनोज मरकाम भी मौजूद थे।

----------------------------

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना