कांकेर। पखांजूर के योगेन्द्रनगर के ग्रामीणों ने हत्या होने पर पखांजूर थाना प्रभारी द्वारा किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए सोमवार आठ अगस्त को कलेक्ट्रेट में जन दर्शन में ज्ञापन सौंपा है। जिसमें मामले की जांच करने व दोषियों पर उचित कार्रवाई करने मृतक के बेटे व पत्नी ने मांग की। पखांजूर क्षेत्र के ग्राम पीवी 30 योगेन्द्र नगर निवासी केशव सरकार अपने माता और गांव के लोगों के साथ आठ अगस्त को कलेक्ट्रेट पहुंचे। उन्होंने बताया कि उसकी पिता कृष्ण सरकार की 28 जून को किसी ने हत्या कर शव उनके खेत के पास मेंढ़ में फेंक दिया था। कृष्ण सरकार 28 जून को सुबह से ही काम करने के लिए खेत गया था।

शाम होने के बाद भी जब वह घर नहीं लौटा तो वह अपने पिता को ढूंढने के लिए खेत तरफ गया परंतु उसका कोई पता नहीं चला। दूसरी बार फिर गया फिर भी कोई पता नहीं चला। तीसरी बार गया तो रात हो गई थी, जहां देखा कि उसके पिता का शव खेत में मेढ़ के पास खून से लतपथ पड़ा हुआ था। जिसकी जानकारी उसने गांव में अन्य लोगों को दी। जिसके बाद लोगों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंच शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया और स्वजनों को सौप दिया और मर्ग कायम कर विवेचना में लिया है। वहीं मृतक के स्वजनों और ज्ञापन सौंपने पहुंचे लोगों को गांव के ही तीन लोगों पर शक है।

बैठक में दी थी जान से मारने की धमकी

बेटे ने बताया कि उसके पिता का घर के बाजू में रहने वाले तीन लोगों के साथ हंस को लेकर विवाद चल रहा था। हंस उसके घर जाता था, इसी बात को लेकर वाद विवाद हुआ था। इस दौरान तीनों ने मृतक को जान से मारने की धमकी दी थी। जिसको लेकर गांव में 25 जून को शाम बैठक हुई। बैठक में भी तीनो ने मृतक को जान से मारने की धमकी दी।

धमकी के तीन दिन बाद हुई हत्या

मृतक की पत्नी संध्या सरकार व गांव के अन्य लोगों ने बताया कि तीनों व्यक्तियों द्वारा धमकी देने के तीन दिन बाद मृतक का शव खेत के मेढ़ में मिला था, जिससे यही शक है कि उक्त तीनों व्यक्तियों द्वारा ही हत्या की गई है। वहीं मृतक के बेटे ने बताया कि शव खेत में मिला था उस समय उसके सिर में किसी भारी चीज से मारने से खून निकल रहा था और दायां पैर के जांघ पर किसी राड से मारकर पैर को तोड़ने का गहर जख्म था, जिसकी मेडिकल रिपोर्ट में भी पुष्टी हुई है।

थाना प्रभारी नहीं कर रहे कार्रवाई

ज्ञापन सौंपने पहुंचे मिथुन मंडल ने बताया कि हत्या के बाद उन्होंने धमकी देने वाली बात व मारपीट, वाद विवाद की बात को पुलिस को बताई। वहीं दो माह से अधिक समय बीतने के बाद भी पुलिस द्वारा किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की गई।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close