बोडला (नईदुनिया न्यूज)। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कबीरधाम जिले के आदिवासी एवं बैगा बहुल बोड़ला विकासखंड के सूदूर वनांचल गांवों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने कवर्धा विधायक मोहम्मद अकबर के प्रस्ताव पर मुहर लगी है। मुख्यमंत्री सुगम सड़क योजना के तहत वनांचल के 34 कार्यों के लिए दो करोड़ आठ लाख 94 हजार रुपए की सौगात दी है। वन, परिवहन, आवास एवं पर्यावरण मंत्री तथा कवर्धा विधायक मोहम्मद अकबर ने शनिवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विधानसभा क्षेत्र के जनपद पंचायत बोड़ला अंतर्गत छह ग्राम पंचायतों में लगभग एक करोड़ 59 लाख रुपये की लागत से बनने वाले 28 सड़क निर्माण कार्यों का भूमिपूजन किया। शेष 50 लाख 7 हजार रुपये की लागत से 6 कार्यों का भूमिपूजन 18 जनवरी को भूमिपूजन करेंगे। इसमें ग्राम लेंजाखार, मण्डलाटोला, रोचन, सरेखा और चिमरा के कार्य शामिल है।

मंत्री अकबर ने भूमिपूजन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि क्षेत्र के मांगों को पूरा करते हुए मुख्यमंत्री सुगम सड़क योजना के तहत कवर्धा विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत बोड़ला जनपद पंचायत क्षेत्रों विभिन्न ग्राम पंचायतों के लिए सड़क निर्माण की स्वीकृति प्रदान की गई है। जिसमें ग्राम पंचायत पीपरखुंटा में कुल 4 कार्य लागत 16.13 लाख रुपये, ग्राम पंचायत चेंदरादादर में कुल 6 कार्य लागत 22.15 लाख रुपये, ग्राम पंचायत दलदली में कुल 08 कार्य लागत 81.90 लाख रुपये, ग्राम पंचायत लरब-ी में कुल 5 कार्य लागत 17.21 लाख रुपये, ग्राम पंचायत लब्दा में कुल 01 कार्य लागत 12.53 लाख रुपये, ग्राम पंचायत आमानारा में कुल 4 कार्य लागत 8.95 लाख रुपये, ग्राम लेंजाखार में कुल दो कार्यों के लिए 16 लाख 85 हजार रुपये, ग्राम मण्डलाटोला के एक कार्य के लिए 16 लाख 31 हजार रुपये, ग्राम रोचन के 1 कार्य के लिए 4 लाख 37 हजार रुपये, ग्राम सरेखा के 1 कार्य के लिए 8 लाख 15 हजार रुपये और ग्राम पंचायत चिमरा के 1 कार्य के लिए 4 लाख 39 हजार रुपये के कार्य शामिल है।

उन्होंने कहा कि बोड़ला विकासखंड के ग्राम पंचायत पीपरखुंटा, चेंदरादादर, दलदली, लरब-ी, लब्दा, आमानारा के वनांचल क्षेत्रों में अलग-अलग 28 सड़कों के निर्माण होने से जिले के वनांचल क्षेत्रों में निवासरत बरसों से उपेक्षित बैगा, आदिवासी परिवारों को आवागमन की अच्छी सुविधा मिलेगी। उन्होनें कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार वनांचल में रहने वाले वनवासी, आदिवासी, विशेष पिछड़ी बैगा जनजाति के लोगों को विकास के मुख्यधारा में जोड़ने के लिए प्रतिबद्घ है।े

52 प्रकार के लघु वनोपज खरीदी का फैसला

वनमंत्री ने बताया कि छत्तीसगढ़ में वर्तमान सरकार के बनते ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के वनांचल में रहने वाले लाखों परिवारों के हित में ठोस फैसला लेते हुए सात प्रकार के लघु वनोपज के स्थान पर 52 प्रकार के लघु वनोपज खरीदी करने का फैसला लिया। इसी प्रकार महुआ का दर 17 रुपये से बढाकर 30 रुपये किया गया है। तेंदूपत्ता प्रतिमानक बोरा 2500 से बढ़ाकर 4 हजार रुपये किया गया है। इसी प्रकार साल बीज, हर्रा, चिरौंजी, गुठली, जामुनबीज, बेलगुदा, धनईफुल, कुसमी, लाख, गिलोय, चरोटा बीज, वन तुलसी, करंज बीज सहित 52 प्रकार के लघु वनोपज की खरीदी अब प्रदेश में हो रही है। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर वनोपज की खरीदी होने पर वनांचल में रहने वाले लाखों परिवारों को इसका सीधा लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा है कि वनांचल में रहने वाले लोगों को खेती किसानी से जोड़ने के लिए अनेक कार्य योजना बनाई गई है। अब छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा कोदो-कुटकी और रागी का भी समर्थन मूल्य पर समस्त प्राथमिक लघु वनोपज सहकारी समिति के माध्यम से खरीदी की जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local