कवर्धा(नईदुनिया न्यूज)। जिले में रविवार को कोविड-19 कोरोना वायरस से संक्रमित 51 नए कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की पहचान की गई है और 27 मरीजों को इलाज उपरांत डिस्चार्ज किया गया है। जिले के जारी मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर कबीरधाम जिले के विकासखंड कवर्धा से 26,जिनमें कवर्धा शहर के सतबहिनिया वार्ड से एक, रामजानकी वार्ड से एक, महबूब शाह दातार वार्ड से दो, गुरुघासीदास वार्ड से नौ,महावीर स्वामी वार्ड से दो, गुरुगोविंद वार्ड नंबर 26 से 10, विकासखंड बोड़ला से तीन, विकासखंड सहसपुर लोहारा से दो एवं पंडरिया विकासखंड से 20 मरीज पाए गए हैं, जिनका कान्टैक्क ट्रेसिंग कर कोविड केयर सेंटर महराजपुर में भर्ती और साथ ही होम आइसोलेशन भी रखा जा रहा है। साथ ही अब तक 508 होम आइसोलेट मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है।

जिला सर्विलेंस अधिकारी ने बताया कि सभी संक्रमित व्यक्तियों की पहचान कर ली गई है। सभी संक्रमित व्यक्तियों का उपचार कवर्धा कोविड केयर सेंटर में किया जाएगा साथ ही होम आइसोलेट भी किया जा रहा है। इस प्रकार अभी की स्थिति में कबीरधाम जिले में 718 कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज जारी है एवं 14 मरीज की मौत हुई है।

कलेक्टर ने जिलेवासियों से अपील करते हुए कहा कि यदि किसी को सर्दी, खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ हो तो तुरंत नजदीकी शासकीय, निजी चिकित्सालय में अपनी जांच कराएं और कोरोना के निःशुल्क जांच के लिए सहयोग करे। जिले में यदि ऐसे किसी भी संदिग्ध प्रवासी प्राप्त होती है तो तत्काल टोल फ्री नंबर 104 पर एवं अंतर विभागीय समन्वय के लिए दुरभाष नंबर 07741232078 पर और जिले के प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी सूचना दें। शासन द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए कोरोना संक्रमण के विरूद्व लड़ाई में प्रशासन का सहयोग करे और अफवाहों से दूर रहें।

निजी चिकित्सालयों में सभी मरीजों का कोरोना जांच अनिवार्य

जिला कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने निजी चिकित्सालयों से राज्य शासन द्वारा कोरोना नियंत्रण के सम्बंध में जारी दिशा-निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन करने व सभी मरीजों के अन्य इलाज से पूर्व कोरोना टेस्ट अनिवार्य रूप से करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि जिले में जिन मरीजों की कोरोना संक्रमण के कारण निधन हुआहै, उनमें से अधिकांश लोग अन्य बीमारी से ग्रसित थे व अपना उपचार निजी चिकित्सालयों में करवा रहे थे। बाद में जब यही मरीज जिला अस्पताल लाए गए और इनकी कोरोना जांच की गई तब इनके कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई। ऐसी स्थिति में निजी चिकित्सालय के स्टाफ व वहां इलाज के लिए आने वाले लोगों में तेज रफ्तार से कोरोना फैलने का खतरा बन रहा है। उन्होंने निजी चिकित्सलयों व डिस्पेंसरी के संचालको से कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में सहयोग देने की अपील भी की है।

कोरोना लक्षण वाले लोगों का एंटीजन टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव आने पर आरटीपीसीआर टेस्ट अनिवार्य

विगत दिनों बैठक में कलेक्टर ने स्पष्ट निर्देश दिया कि जिन लक्षण वाले व्यक्तियों का एंटीजन टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आएगी, उनका आरटीपीसीआर जांच किया जाना अनिवार्य है। उन्होंने ऐसे मरीजों की समस्त जानकारी समेत अलग जानकारी रजिस्टर बनाकर डेली रिपोर्ट करने के लिए भी निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि जिन लोगों की आरटीपीसीआर जांच की जाएगी, उन्हें रिपोर्ट आते तक होम क्वारंटाइन रहने के लिए परामर्श दिया जाना भी जरूरी है। उन्होंने सभी विकासखण्ड के बीएमओ को इस दिशा में कार्य सुचारू करने के लिए कहा है।

वार्ड वार होने वाले सर्वे में दें सही जानकारी

कलेक्टर ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए वार्ड वार सर्वे करके कोरोना के लक्षण वाले लोगों का अनिवार्य रुप से कोरोना जांच करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सर्वे में किसी भी प्रकार के गम्भीर बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों, गर्भवतियों व बुजुर्गों को भी अनिवार्य रूप से शामिल करने को कहा है। उन्होंने जनता से अपील की है कि इस सर्वे में अपनी सही जानकारी देकर जांच कराएं और कोरोना संक्रमण के खतरे को रोकने में मदद करें। जिला सर्विलेंस टीम को इस दिशा में लगातार कार्य सुचारू रखने का निर्देश भी कलेक्टर द्वारा दिया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020