कवर्धा (नईदुनिया न्यूज)। होटल रायल सेलिब्रेशन में शुक्रवार सात जनवरी को नईदुनिया परिवार के द्वारा कोरोना योद्धाओं का सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है। आयोजन होटल रायल सेलिब्रेशन में सुबह 11 बजे होगा। पाठकों को ज्ञात ही है कि इससे पहले भी नईदुनिया परिवार के द्वारा शिक्षा, कानून व्यवस्था सहित अन्य विशेष कार्यों को लेकर लोगों की हौसला अफजाई की जा चुकी है। इसी कड़ी में एक बार फिर नईदुनिया उनका सम्मान करने जा रहा है, जिन्होंने अपनी जान की परवाह न करते हुए कोरोना से पीडित व्यक्तियों की मदद के लिए सामने आए। चाहे वह आर्थिक मदद हो या कोरोना पीडितों को महामारी से लड़ने की हिम्मत देने की बात। जब कोरोना मार्च में पैर पसार चुका था, उस समय कुछ ऐसी भी खबरें पढाई व देखने को मिलीं जब परिवार के लोगों ने ही दूरी बना ली, पीड़ितों, मृतकों को यूं ही छोड़ दिया करते थे। उस समय डाक्टरों ने पीडितों का उपचार करने की पूरी जवाबदारी उठाई। अपना सुख-चैन का त्याग कर पीडितों की मदद की।

दिक्कतें यही बस नहीं थीं, लाकडाउन के बाद बाहर कमाने-खाने गए लोग जब कबीरधाम जिले के लिए निकले तो वाहन की सुविधा नहीं मिली। लोग पैदल ही अपने परिवार के साथ कोसों दूरी तय करने को मजबूर थे। तब जिला प्रशासन ने मार्च में छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के बार्डर पर राहत का कैंप लगाकर ऐसे लोगों को चरण पादुका का वितरण किया था। राहगीरों के रुकने व भोजन की व्यवस्था की थी। जिले में अनेक समाजसेवी संस्थाओं ने चैबीसों घंटे ऐसे मजदूरों के रुकने-खाने का इंतजाम कर उन्हें पंचायतों तक पहुंचाया। पंचायत स्तर पर क्वारंटाइन सेंटर की व्यवस्था की गई, जिनकी मानिटरिंग जिले के कलेक्टर व अधिकारियों ने की। कोरोना काल में न जाने कितनों ने अपनों को खोया। उस दुख को भी हम भूले नहीं। नईदुनिया ने ऐसे दौर में भी कोरोना से मृत लोगों की आत्मा शांति के लिए अखबार के माध्यम से जनजागरण करते हुए दो मिनट का मौन रखवाया था। इसमें मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के लाखों लोगों ने दो मिनट मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित की थी।

नईदुनिया अखबार निष्पक्ष खबरों को लेकर जाना जाता है और सामाजिक सरोकार के लिए भी। इसी कड़ी में नईदुनिया परिवार के उन कोरोना योद्धाओं का सम्मान करने जा रहा है, जिन्होंने कोरोना काल में मानवता का परिचय दिया। कबीरधाम जिले में ऐसे कई मददगार अधिकारी, कर्मचारी, वरिष्ठ नागरिक सहित आम लोगों ने यथाशक्ति सहयोग किया। किसी ने राशन वितरण किया तो किसी ने भोजन बनाकर भी जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया था।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local