लीड

00 जिले में रबी सीजन में 22783 किसानों ने 32104 हेक्टेयर रकबा में गेहूं और चना का कराया है बीमा

06 (चिल्फी इलाके में भी जबरदस्त बारिश)

फोटो-09 बारिश से बरबसपुर के पास खराब हुई राहर की फसल ।

कवर्धा (नईदुनिया न्यूज) जिले में फिर से बारिश हो रही है। इससे उद्यानिकी की फसल को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। इसके अलावा धान खरीदी भी प्रभावित होगी। दूसरी ओर जिले में रबी सीजन में 22,783 किसानों ने 32,104 हेक्टेयर रकबे में गेहूं और चना का बीमा कराया है। इसे देखते हुए कृषि विभाग ने बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को 72 घंटे के भीतर टोल फ्री नंबर -1800 209 5959 में शिकायत दर्ज कराने अपील की है। मंगलवार को जिले के विकासखंडों में अधिक बारिश हुई।

जिले में बारिश को देखते हुए जिला प्रशासन शुरुआत से एक्टिव रहा है। क्योंकि पूर्व में हुए बारिश के कारण नुकसान हुआ था। वर्तमान में हुए बारिश को देखते हुए खरीदी केंद्रों में विशेष व्यवस्था की गई है। कवर्धा में सुबह 10 बजे से रुक-रुक कर बारिश हुई। ग्रामीण क्षेत्रों में तो झमाझम बारिश हुई है। बारिश के चलते कई हिस्सों में सुबह से कोहरे छाए रहे और जनजीवन भी प्रभावित रहा। चिल्फी इलाके में भी जबरदस्त बारिश हुई है। कबीरधाम जिले में 103 धान खरीदी केंद्रों में पंजीकृत किसानों से सुचारू रूप से धान खरीदी करने की व्यवस्था बनाई गई है। समिति प्रबंधन द्वारा पंजीकृत किसानों को घर पहुंच टोकन भी दिए जा रहे हैं। वहीं इन केंद्रों में अमानक धान की खरीदी को रोकने और जिले में अन्य राज्यों से आने वाले धान के अवैध परिवहनों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही। वर्तमान में हो रहे बारिश के कारण मंगलवार को कई केंद्रों में खरीदी नहीं हुई है।

कोहरे से किया परेशान, हाईवे पर कम चले वाहन

मौसम खराब होने के साथ ही जिले में कोहरा की स्थिति बनी रहीं है। कवर्धा से जबलपुर व कवर्धा रायपुर हाईवे में दिनभर कोहरा छाया रहा। इसके चलते यहा गाड़ियों की आवाजाही भी कम रही है। जिले में अधिकतम तापमान में और गिरावट आएगी। हालांकि न्यूनतम तापमान में विशेष बदलाव नहीं होगा। साथ ही तीन दिनों बाद जब मौसम सामान्य तो ठंड में भी थोड़ी बढ़ोतरी होगी। सोमवार रात से हुई हल्की बारिश की वजह से मौसम में ठंडक भी बढ़ गई। बारिश के चलते ठंड बढ़ने से ऊलन कपड़ा बाजार में फिर से भीड़ बढ़ने लगी है और खरीदारी भी बढ़ गई है। कारोबारियों का कहना है कि अब कारोबार की रफ्तार भी बढ़ने लगी है।

इस कारण बदला है मौसम

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि प्रदेश के उत्तरी भाग में विंड कान्फ्लूएंस जोन बनने की संभावना है। इसके चलते ही अगले तीन दिनों तक मौसम खराब रहेगा। मौसम विभाग की माने तो ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा उत्तर हरियाणा के ऊपर स्थित है। यहीं से एक द्रोणिका 0.9 किमी ऊंचाई तक दक्षिण पूर्व मध्य प्रदेश तक है। एक द्रोणिका उत्तर-अंदरूनी कर्नाटक से उत्तर मध्य-महाराष्ट्र 0.9 किमी ऊंचाई तक है। इसके प्रभाव से मंगलवार को विभिन्न क्षेत्रों में हल्की से मध्यम वर्षा हुई है। अधिकतम तापमान में गिरावट आएगी,हालांकि न्यूनतम तापमान में अभी विशेष बदलाव नहीं होगा।

ज्यादारत किसान धान बेच चुके धान

जिले में खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में जिले में 1 लाख 14 हजार 967 पंजीकृत किसान है। इस वर्ष पंजीकृत किसानों से 44 लाख 89 हजार 49 क्विंटल धान खरीदी का लक्ष्य निर्धारित की गई है। सुचारू व शांति पूर्ण ढंग से धान की खरीदी हो सके इसके लिए जिले में सीमांत किसान, लघु किसान और दीर्घ किसान तीन वर्ग में विभाजित किया गया है। इस कारण खरीदी भी जल्द की जा चुकी है। वर्तमान में केवल बड़े वर्ग के किसान ही बचे हुए है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local