कवर्धा (नईदुनिया न्यूज)। उत्तर से आने वाली ठंडी और शुष्क हवाओं का अब फिर से निर्बाध रूप से प्रवेश होने लगा है। इसके चलते बीते चार दिनों से रात में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि आगामी दिनों में तापमान और गिरेगा जिससे ठंड और बढ़ जाएगी। जिले में इसका असर दिखाई दे रहा है। कवर्धा का रात तापमान 8 डिग्री पहुंच गया है। दूसरी ओर राज्य का शिमला कहे जाने वाले चिल्फीघाटी में रात का तापमान पांच डिग्री पहुंच गया है। मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार चार दिन पहले तक शहर व अंचल का मौसम बदला हुआ था। पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से आसमान में घने बादल छाए हुए थे और बारिश भी हुई थी। इसके चलते दिन में तो ठंड महसूस हो रही थी पर रात का पारा चढ़ गया था। इससे ठंड लगभग गायब हो गई थी। अब पश्चिमी विक्षोभ का असर समाप्त हो गया है। ऐसे में उत्तर से आने वाली शुष्क व ठंडी हवाएं निर्बाध रूप से प्रदेश में दस्तक दे रही है।

सुबह से ही चली ठंडी हवा

गुरुवार को सुबह से ठंडी हवा चली। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि आने वाले दिनों में न्यूनतम तापमान में तीन से चार डिग्री सेल्सियस तक और गिरावट होने की संभावना है। अधिकतम तापमान में विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है। इन सबके बीच शाम से ही ठिठुराने वाली ठंड पड़ेगी। इधर मौसम विभाग ने स्वास्थ्य को लेकर सावधानी रखने की सलाह दी गई है। बच्चों और बुजुर्गों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। प्रदेश उत्तरी भाग ुबह हल्के से मध्यम घना कोहरा बनने की संभावना है। ऐसे में शहर के आसपास के इलाकों में भी कोहरा दिख सकता है।

मौसम की मार, हर घर बीमार

लगातार मौसम में आ रहे परिवर्तन के कारण तापमान में भी उतार-चढ़ाव आता है और कभी अचानक कड़ाके की ठंड पड़ने लगती है। कभी शीतलहर चलने लगती है। बादलों के कारण तापमान में बढ़ोतरी भी हो जाती है। ऐसी स्थिति में लोगों के स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ रहा है। इस समय कोरोना संक्रमन से लोग जूझ रहे हैं ऐसे समय में मौसम के उतार-चढ़ाव का सीधा असर लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। बधो,बूढ़े, जवान हर किसी को सर्दी, खांसी, जुकाम और बुखार से पीड़ित होना पड़ रहा है। यदि लोग भयभीत होकर जांच करा रहे हैं तो कोरोना संक्रमित हो जा रहे हैं। ठंड के कारण अब शहर के लोग मार्निंग वाक में कम दिख रहे हैं। कवर्धा शहर के लालपुर रोड पर पूर्व में 100 की संख्या में सुबह के समय भीड़ दिखाई देती थी, वहीं गुरुवार को ठंड और कोहरे के कारण लोगों का आवागमन भी काफी कम रहा। लोगों का कहना है ऐसी सर्दी कभी नहीं देखी। इसके अलावा ग्रामीण अंचल में तो कवर्धा शहर से ज्यादा ठंड पड़ रही है।

दिन में निकली धूप से मिली राहत

शीतलहर चलने से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मौसम में परिवर्तन से जन-जीवन पर असर पड़ा है। क्षेत्र में ठंडी हवा से सर्दी बढ़ गई है। इस स्थिति में लोग जरूरी काम से ही घरों से बाहर निकल रहे हैं। इसके अलावा लोगों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर देखने को मिल रहा है। जनवरी माह में मकर संक्रति के बाद से ठंड तेजी से बढ़ी है। दिन के वक्त धूप के चलते लोगों को राहत मिली, लेकिन शाम होते ही शीतलहर से हाल बेहाल होने लग रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local