कवर्धा। नईदुनिया न्यूज

छत्तीसगढ़ के स्कूलों में अध्ययनरत कक्षा नवमीं और दसवीं के विद्यार्थी अब स्कूल के बाहर भी अपनी पाठ्य वस्तुओं का रोचक रूप से अध्ययन कर सकेंगे। मल्टीमीडिया के माध्यम से इन कक्षाओं की पाठ्य पुस्तकों को अब विद्यार्थी न केवल देख सकेंगे बल्कि बोलते हुए सुन भी सकेंगे। इन कक्षाओं के विद्यार्थी किसी वजह से स्कूल नहीं जा पाते तो भी वे उस पाठ का अध्ययन कर सकेंगे। इसके लिए गूगल प्ले स्टोर में जाकर सीजीएमएमटीबी (सीजी-एमएमटीबी) एप्प को डाउनलोड कर पंजीयन कराने पर संबंधित विषय की पाठ्य सामग्री को मल्टीमीडिया के रूप में देखा और सुना जा सकेगा। यह पाठ्य पुस्तकें कहीं भी और कभी भी इस एप्प के रूप में हमेशा उनके साथ रहेंगी। सभी डिजीटल पाठ्य पुस्तक विद्यार्थियों के लिए काफी रोचक और नवीनता लिए हुए है। इस एप्प से जिले के 10 हजार से अधिक बच्चों को फायदा होगा।

देश में पहली बार में पहली बार किया जा रहा

राज्य के स्कूली विद्यार्थी विभिन्ना विषयों के सुगम अध्ययन सुविधा के लिए स्कूल शिक्षा विभाग की महत्वाकांक्षी योजना छत्तीसगढ़ मल्टीमीडिया टेक्स्टबुक राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद और राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी) के संयुक्त संयोजन में प्रारंभ की गई है। मल्टीमीडिया के इस एप्प में कक्षा नवमीं और दसवीं के पाठ्य पुस्तकों की विषयवस्तुओं को आडियो, वीडियो और एनिमेशन इत्यादि के माध्यम से प्रस्तुत किया गया है। राज्य में इस तरह का प्रयास देश में पहली बार किया गया है। यह मल्टीमीडिया पाठ्य सामग्री स्कूली शिक्षकों के अध्यापन में भी सहायक होगी। पाठ्य पुस्तकों को मल्टीमीडिया में तैयार करने का कार्य कई चरणों में किया गया।

थ्री-डी एनिमेशन मल्टीमीडिया में जोड़ा गया है

राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद के स्टूडियों में इसका आडियो रिकार्डिंग और क्रियाकलापों की वीडियो रिकार्डिंग किया गया है। संबंधित विषय की पाठ्य पुस्तक के पाठ में दी गई विषय वस्तु की मांग के अनुसार विषय विशेषज्ञों द्वारा दिए गए सुझावों के अनुरूप चित्र और थ्री-डी (3डी) एनिमेशन मल्टीमीडिया में जोड;ा गया और ओपन एजुकेशन रिसोर्स (ओईआर) में उपलब्ध चित्र और वीडियो विषयवस्तु की आवश्यकतानुसार सम्मिलित किया गया। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद में संपूर्ण पाठ का वीडियो बनने के बाद विषय विशेषज्ञों द्वारा तैयार सामग्री का परीक्षण किया गया। पाठ का परीक्षण करने के बाद राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र द्वारा वीडियो लेसन को मोबाइल एप्प में परिवर्तित कर अपलोड किया गया।

इस तरह करेगा काम

एप्प को डाउनलोड करने के बाद अध्यायों को डाउनलोड करने मोबाइल में देख सकते है। इस एप्प से अध्ययन के लिए जो भी अध्यान डाउनलोड करते है वह मोबाइल में स्पेस नही लेगा बल्कि सर्वर में उपयोगकर्ता के नाम से जो आईडी बनेगा उसमें सेव रहेगा। इस प्रकार मोबाइल का स्पेस नहीं लेगा। बाद में अपग्रेड विषयवस्तु देखने के लिए सिंक (एसवायएनसी) में क्लिक कर या नीचे मोर (मोर) में जाकर भी सिंक (एसवासएनसी) कर सकते है। कक्षा दसवीं के विषयवस्तु को नीचे लाइब्रेरी में जाकर देख सकते है।