कवर्धा। नईदुनिया न्यूज

कवर्धा में श्री शंकराचार्य जन कल्याण न्यास द्वारा ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठाधीश्वर जगद्युरु शंकराचार्य स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती जी के निर्देशानुसार कचहरी पारा स्थित श्री जानकी रमण प्रभु देवालय परिसर में मंगलवार को शाम छह बजे से 11 हजार दीपदान किया गया।

दीपावली के 15 दिन बाद कार्तिक पूर्णिमा के ही दिन देव दिवाली का त्योहार मनाया जाता है। हर त्योहार की तरह यह त्योहार भी अन्य शहरों में भी मनाया जाता है, लेकिन इसका सबसे ज्यादा उत्साह बनारस में देखने को मिलता है। इस दिन मां गंगा की पूजा की जाती है। इस दिन गंगा के तटों का नजारा बहुत ही अद्भुत होता है, क्योंकि देव दिवाली के इस पर्व पर गंगा नदी के घाटों को दिए जलाकर रोशन किया जाता है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन हर्षोल्लास के साथ दीपदान किया गया। नगर के राधाकृष्ण बड़े मंदिर, कचहरी पारा स्थित राम मंदिर, सहित अन्य मंदिरो में भी दीपदान किया गया।

कार्तिक मेला का भी हुआ आयोजन

इसके साथ ही बहुत सी जगहों में कार्तिक पूर्णिमा पर मेले का भी आयोजन हुआ। मेले में लोग दूर-दराज से पहुंचे हुए थे। मेले में बड़ी संख्या में दुकानें सजी हुई थी। कार्तिक माह के पूर्णिमा को लेकर अनेकों जगह दीपदान करते हुए इस पर्व को धूमधाम से मनाया गया। मान्यताओं के अनुसार इस दिन शंकर भगवान ने राक्षस त्रिपुरासुर का वध किया था। इसी खुशी में देवाओं ने इस दिन स्वर्ग लोक में दीपक जलाया। इसके बाद से हर साल इस दिन को देव दिवाली के रूप में मनाया जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network