कवर्धा। उत्तर से शुष्क व ठंडी हवा आने की वजह से न्यूनतम तापमान में गिरावट आ रही है। इसके प्रभाव से रात में हल्की ठंड भी शुरू हो गई है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि आने वाले दिनों में पारे में और गिरावट के संकेत है। साथ ही सुुबह-सुबह धुंध भी छाई रही। वहीं सुबह के वक्त मौसम में बदलाव देखा गया। जिले के विभिन्ना क्षेत्रों में मौसम साफ रहा और धूप निकली। जिले का अधिकतम तापमान 31.8 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 20.2 डिग्री सेल्सियस रहा। न्यूनतम तापमान में गिरावट की वजह से मौसम में यह बदलाव हुआ है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि अगले हफ्ते से त्योहारी दिनों में तो ठंड और जोर पकड़ सकती है। आने वाले दिनों में भी न्यूनतम तापमान में गिरावट का यह सिलसिला जारी रहेगा। कपड़ा दुकानों में अब मौसम को देखते हुए गर्म कपड़े भी आने लगी है। साथ ही विभिन्ना क्षेत्रों में गर्म कपड़ों का स्टाल भी आने वाले कुछ दिनों में सजना शुरू हो जाएगा।

बढ़ने लगा ठंड का असर

ठंड का असर सुबह व शाम को ही महसूस किया जा रहा है। वहीं दोपहर को धूप का असर हावी होने से गर्मी रहती है। सूर्योदय के पहले वातावरण में कोहरा छाया रहता है, जिसके कारण लोग सूर्योदय के बाद गंतव्य की ओर आवागमन करना पसंद कर रहे हैं। शाम होते ही ठंड का असर शुरू हो जाता है। ठंड से बचने के लिए लोग अब गर्म कपड़ों का उपयोग भी शुरू कर दिए हैं।

अस्पतालों में पहुंच रहे सर्दी और बुखार के मरीज

मौसम के जानकारों की माने तो आगामी पखवाड़े तक ठंड में अतिरिक्त इजाफा के आसार नजर आ रहे हैं। ठंड के बढ़ते असर के साथ सर्दी-जुकाम जैसी बीमारियां भी घर करने लगी हैं। अस्पतालों में सर्दी और बुखार के मरीज पहुंच रहे हैं। देर रात तक बाहर घूमना बीमारी को आमंत्रण करना साबित हो रहा। सुबह स्कूल पहुंचने वाले विद्यार्थियों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है। बदलते मौसम के साथ सर्दी का असर भी तेज होने लगा है। शहर के सड़क मार्ग पर गर्म कपड़ों के विक्रताओं की कतार देखी जा रही है। अभी ठिठुरन जैसी सर्दी की स्थित नहीं है, तथापि लोग बढ़ती सर्दी के चलते देर शाम तक बाहर रहने के बजाए जल्दी घर पहुंचने के प्रयास में देखे जा रहे हैं।

किसान धान कटाई में व्यस्त

तापमान में जैसे-जैसे गिरावट आ रही है, ठंड बढ़ने के साथ खेती का काम तेज होने लगा है। किसान इन दिनों खेत से खलिहान तक पूरी तरह व्यस्त हैं। जिन किसानों ने पहले ही धान की रोपाई कर दी थी वह धान पककर खेतों में तैयार है। उसकी कटाई भी शुरू हो चुकी है। धान की कटाई के साथ रबी फसल की तैयारी में भी किसान लग गए हैं। धान की कटाई और खलिहान तक लाकर उसकी मिंजाई कराना किसानों के लिए मेहनत का काम है। ऐसे समय में आसमान पर छा रहे बादल भी किसानों को चिंता में डाल रहे हैं। सप्ताह भर पूर्व हुई बारिश के बाद मौसम खुला तो किसान धान की कटाई में लग गए थे। अब एक बार फिर आसमान में मंडराते बादल किसानों को बेचैन करने लगे हैं।

इस प्रकार बन रहा सिस्टम

मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में शुष्क हवाएं आने की वजह से मौसम शुष्क रहेगा। अधिकतम तापमान में विशेष बदलाव की संभावना नहीं है। हवा की दिशा भी अब उत्तर हो जाएगी। आने वाले दिनों में न्यूनतम तापमान में और गिरावट की संभावना है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local