कवर्धा। कवर्धा के विधायक एवं प्रदेश के कैबिनेट मंत्री मोहम्मद अकबर ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बोड़ला के नागरिकों से चर्चा की। इस दौरान उन्होंने उनकी समस्या भी सुनीं। कैबिनेट मंत्री राजधानी रायपुर के शंकर नगर स्थित निवास कार्यालय से वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए बोड़ला से जुड़े। जिसमें लगभग 70 मजदूर वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए चर्चा के लिये उपस्थित हुए। मजदूरों ने बताया कि मंडलाटोला स्थित राज्य भंडार गृह निगम के गोदाम में सुकवापारा, मंडलाटोला, मुड़ियापारा एवं बोड़ला के मजदूर कार्य करते हैं। बोड़ला विकासखंड में भंडार गृह निगम के नया गोदाम हेतु 3 करोड़ 68 लाख की राशि स्वीकृत हुई है। भंडार गृह निगम ग्राम सिंघारी या बैजलपुर में नए गोदाम का निर्माण कराना चाहता है। इससे वर्तमान में कार्य कर रहे मजदूरों का हित प्रभावित होगा। मजदूरों ने यह मांग रखी कि भंडार गृह निगम के नए गोदाम का निर्माण बोड़ला विकासखंड के खसरा क्रमांक 28 एवं 30 में रिक्त भूमि पर ही किया जाए। मजदूरों की इस मांग पर मंत्री मोहम्मद अकबर ने इस विषय पर राज्य भंडार गृह निगम अध्यक्ष एवं राजस्व विभाग से चर्चा करने का आश्वासन दिया।

वीडियो कांफ्रेसिंग से चर्चा के दौरान बोड़ला में नए राशन कार्ड की मांग भी सामने आई। जिस पर मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में सभी परिवारों को राशन कार्ड उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला कबीरधाम में फरवरी 2022 से अलग-अलग विकासखंडवार राशन कार्ड बनाने के लिए अतिरिक्त व्यवस्था की जाएगी, ताकि कोई भी परिवार राशन कार्ड से वंचित न रहे। विकासखंड बोड़ला में आवासीय पट्टा की मांग आने पर मंत्री ने कहा कि अधिकांश आवासीय पट्टे उन्होंने अपने हाथों से हितग्राहियों को सौंपे हैं। आवासीय पट्टे के कुछ आवेदन लंबित हैं। इस बारे में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को इस संबंध में जानकारी देने निर्देश दिया गया है।

नियमितीकरण की मांग

मंत्री से चर्चा करने के लिए वनोपज सहकारी समिति कर्मचारी भी उपस्थित हुए थे। उन्होंने अपने वेतन वृद्घि एवं नियमितीकरण की मांग रखी। मंत्री मोहम्मद अकबर ने उनसे कहा कि इन मांगों के संबंध में कर्मचारियों के हित में राज्य सरकार सहानुभूतिपूर्वक विचार कर रही है। मंत्री मोहम्मद अकबर ने वनोपज सहकारी समितियों के कर्मचारियों से तेंदूपत्ता सहित अन्य लघु वनोपज के संग्रहण में रूचि लेकर कार्य करने की अपील की। बोड़ला में वीडियो कांफ्रेंसिग में त्रिवर्षीय पाठ्यक्रम के चिकित्सक भी उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि वे पिछले लगभग 10 वर्षो से संविदा के आधार पर कार्य कर रहे हैं। जिला कबीरधाम में त्रिवर्षीय पाठ्यक्रम के आधार पर कुल 55 चिकित्सक सेवारत हैं उन्होंने अपने नियमितीकरण की मांग मंत्री के समक्ष रखी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local