कवर्धा (नईदुनिया न्यूज)। बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच कोरोना के टीकाकरण को लेकर जोर दिया जा रहा है। इस बीच बच्चों को कोरोना से बचाना जरूरी है। ऐसे में जिले में 15 से 18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को टीका लगाया जा रहा है। इसे लेकर जिला प्रशासन मॉनीटरिंग कर रही है। जिले में अब तक 15 हजार से अधिक बच्चों को टीका लगाया जा चुका है। वर्तमान में तेजी से टीकाकरण अभियान जारी है। गौरतलब है कि कोरोना से बचाव के लिए जिले में 15 से 18 वर्ष के किशोर-किशोरियों को तीन जनवरी से टीके लगाए जा रहे है। इसके लिए पात्र लाभार्थी एक जनवरी से कोविन एप पर अपना पंजीयन कराने के बाद सेंटर आ सकते है। इसी प्रकार केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के निर्देशानुसार स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और गंभीर बीमारियों से पीड़ित 60 वर्ष से अधिक के लोगों को 10 जनवरी से कोरोना वैक्सीन की तीसरी खुराकदी जाएगी। इस वर्ग के ऐसे लोग जिन्हें दूसरी खुराक लिए नौ महीने या 39 सप्ताह पूरे हो चुके हैं, उन्हें तीसरी खुराक दी जाएगी। जिला प्रशासन ने पात्र नागरिकों से कोविन एप में पंजीयन कर तीसरा टीका लगवाने की अपील की है। जिला प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग को किशोर-किशोरियों को टीकाकरण सहित गंभीर बीमारियों से पीड़ित 60 वर्ष से अधिक लोगों को टीकाकरण हेतु लक्षित समूह को जानकारी देने इसका व्यापक प्रचार-प्रसार करने को कहा है।

28 दिन बाद दूसरा डोज लगाए जाएंगे

कबीरधाम जिले में सभी हाई व हायर सेकंडरी स्कूलों में 15 से 18 आयु वर्ग के बच्चों को टीका लगाया जा रहा है। वर्तमान में पहले डोज के टीके लगाए जाएंगे। इसके बाद दूसरे डोज का टीका 28 दिन बाद लगाए जाएंगे। वर्तमान में केवल को-वैक्सीन टीके का ही विकल्प रहेगा। 10 जनवरी के बाद फ्रंटलाइन वर्कर्स और गंभीर बीमारी जैसे हार्ट डिसी, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, बोन मैरो ट्रांसप्लांटेशन, किडनी डिसी, हीमोडायलिसिस, कैंसर, सिकलसेल, एचआईवी एवं अन्य गंभीर बीमारियों से पीड़ित 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों कोरोना वैक्सीन की तीसरी खुराक दी जाएगी।

टीका को लेकर स्कूलों बच्चों में रुचि

जिले में चल रहे इस अभियान में स्कूली बधो बढ़ चढ; कर हिस्सा ले रहे है। वैसे इस टीकाकरण को लेकर 56 हजार का लक्ष्य है,जिसे जल्द की पूरा किया जाएगा। क्योंकि बीते दो माह से जिला प्रशासन द्वारा टीकाकारण को लेकर विशेष रुचि ली जा रहीं है। वर्तमान में चल रहे 15 से 18 आयु वर्ग के टीकाकरण में सबसे बड़ी राहत की बात है कि किसी भी बधों को कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट का मामला सामने नहीं आया है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग द्वारा टीकाकरण के दौरान हीं बच्चों को दवाई दी जा रहीं है।

पालकों की विशेष बैठक आयोजित कर टीकाकरण की जानकारी देने निदेंश

इधर टीकाकरण अभियान को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने निजी और शासकीय दोनों स्कूलों में कोविड टीकाकरण के विशेष सत्र के संबंध में पालकों के साथ विशेष बैठक आयोजित कर उन्हें टीकाकरण की जानकारी देने कहा है। उन्होंने बच्चों के टीकाकरण के समय पालकों से उपस्थित रहने का आग्रह करने के लिए भी निर्देशित किया है। पालकों के साथ बैठक का कार्यवाही विवरण स्कूल में सुरक्षित रखने कहा गया है। टीकाकरण सत्र के दिन टीकाकरण टीम द्वारा कोविन पोर्टल पर उस स्कूल के लिए एक विशेष सत्र का निर्माण किया जाएगा और स्कूल के शिक्षक टीकाकरण टीम से साथ मिलकर 15 से 18 वर्ष के सभी बच्चों का कोविन पोर्टल पर ऑन-साइट पंजीकरण करेंगे। पंजीकरण के बाद टीकाकरण टीम द्वारा बच्चों को 'कोवैक्सीन' का टीका लगाया जायेगा।

बच्चों को कम से कम 30 मिनट तक स्कूल में ही बिठाकर रखें

स्वास्थ्य विभाग ने टीकाकरण के बाद बच्चों की निगरानी के भी निर्देश दिए हैं। टीका लगाने के बाद बच्चों को कम से कम 30 मिनट तक स्कूल में ही बिठाकर रखा जाएगा जिससे कि उनमें टीके के किसी भी प्रकार के विपरीत प्रभाव पर नजर रखी जा सके। एईएफआई होने पर बधो को तत्काल नजदीक के अस्पताल में ले जाने की व्यवस्था पहले से रखी जाएगी। यदि किसी बधो को कोई एईएफआई होता है तो उसे तत्काल अस्पताल ले जाकर इलाज कराया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local