कवर्धा। जिले में कोरोना की तीसरा लहर अभी से शुरू हो गया है। अब प्रतिदिन 30 से अधिक संक्रमित मिल रहे। इस कारण कोरोना रोकथाम के नियम का पालन करना जरूरी है। इस माह मिले सभी संक्रमितों में 15 वर्ष से कम उम्र के 12 से अधिक बधो भी शामिल हैं। जो डराने वाला है। इसमें एक वर्ष का बधाा भी संक्रमित है,जिसे आइसीयू में भर्ती कराया गया है। जिले में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसे देखते हुए जिला प्रशासन भी अलर्ट मोड पर काम कर रहीं है। वर्तमान में मिले कोरोना संक्रमित एक वर्ष के बधो को सुधादेवी कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराया गया है। दूसरी ओर अभी भी शहर के मार्केट में भीड़ दिखाई दे रहीं है। लोगों में कोरोना को लेकर डर नहीं है। कबीरधाम जिले की बात करें तो जिले में अब एक्टिव संक्रमितों की संख्या 220 के पार चली गई है। हालांकि रोकथाम के रूप में जिला प्रशासन भी बेहतर काम कर रहा है। वर्तमान में कोरोना टीकाकरण भी जारी है।

संक्रमण से बधाों को सबसे ज्यादा खतरा

कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी है और पूर्व से ही जिस बात का डर जताया जा रहा था, वैसे हालात भी नजर आने लगे हैं। तीसरी लहर में सबसे अधिक बधाों को खतरा होने की बातें कही जा रही थीं, जो सच साबित होती दिख रही हैं। जिले में संक्रमितों की संख्या में बधाों के आंकड़े बढ़ रहे है। कोरोना की तीसरी लहर भी धीरे-धीरे खतरनाक होती जा रहा है। वर्तमान में कई युवा भी संक्रमित हुए हैं। लेकिन वे कोरोना टीका लगवा चुके हैं। इस कारण वे जल्द रिकवर भी हो रहे हैं। लेकिन 15 वर्ष से कम उम्र के बधाों के लिए अभी तक टीका नहीं बनी है। इस कारण इन्हे ज्यादा खतरा है। हालांकि 15 से 18 वर्ष तक के बधाों को टीकाकरण स्कूल स्तर पर किया जा रहा है। कबीरधाम जिले में 15 से 18 वर्ष के करीब 20 हजार से बधाों को टीका लगाया जा चुका है।

निगरानी नहीं होने से बढ़ रहा संक्रमण

कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है और इसका मुख्य कारण यह भी है कि कोरोना की पहली व दूसरी लहर में लोगों ने जितनी निगरानी की उतनी निगरानी अब नहीं की जा रहीं। लोगों की लापरवाही व अनदेखी का आलम यह है कि कोरोना जांच के सैंपल देने के बाद लोग अपने काम-काज निपटा रहे हैं और दूर-दूर तक यात्रा कर रहे हैं। इसके अलावा जिन कोरोना संक्रमितों को घर रखा जा रहा है, उनमें से कई लोग आम दिनों की तरह अपने काम-काज निपटा रहे हैं। कंटेनमेंट जोन पर भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग ने की अपील

जिले में कोविड की चपेट में आने वालों की संख्या में बहुत तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। स्वास्थ्य विभाग ने अपील है कि कोविड से बचाव के तरीके, जैसे-मास्क पहनना, दो गज दूरी में रहना, अनावश्यक रूप से भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचना, कोविड टीका का सभी डोज आवश्यक अंतराल उपरांत लगवाना इत्यादि का पालन जरूर करें। सर्दी, खांसी, बुखार, बदन दर्द, स्वाद या सूंघने की क्षमता में कमी, सिर दर्द आदि आने पर तत्काल उपचार और जांच करवाया जाए। कोविड के अधिकांश मामलों में उपचार में की गई देरी ही जानलेवा साबित हुई है। स्वास्थ्य विभाग की दल व मितानिनों द्वारा जो साप्ताहिक सामुदायिक सर्वे किया जा रहा है, उस टीम को अपने सेहत के संबंध में सही जानकारी देकर कोविड के जानलेवा जोखिम से सुरक्षित रहें।

पाजिटिव दर बढ़ रही

स्वास्थ्य विभाग की माने तो जनवरी के पहले सप्ताह में जिले में कोविड के मात्र चुनिंदा प्रकरण ही सामने आए थे और पॉजिटिव दर 0.01 प्रतिशत थी। जो महज 15 दिनों में लगभग 200 गुना बढ़कर 2 प्रतिशत हो चुका है। कोविड के बचाव के तरीकों को अब नहीं अपनाएंगे तो यह स्थिति बहुत जल्द ही भयावह हो सकती है। इस कारण अभी से कोरोना गाइडलाइन का पालन करना बेहद जरूरी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local