कवर्धा(नईदुनिया न्यूज)। जिले के लोगों को अच्छी सड़क सुविधा के लिए कई निर्माण कार्य कराए गए, लेकिन इस बारिश में इन सड़क निर्माण की पोल खुल रही है। नेशनल हाईवे, प्रधानमंत्री सड़कों की हालत खराब है। मुख्यमंत्री सड़क का तो कोई हिसाब ही नहीं है। ऐसे में खराब सड़क होने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इन्हीं खराब सड़कों के कारण दुर्घटना हो रहीं है। शहर से गुजरने वाले नेशनल हाईवे की हालत इतनी खराब है, कि सड़कों पर जगह - जगह गड्ढे हो गए हैं। सबसे बुरी स्थिति जिले के पड़रिया, बोड़ला, सहसपुर लोहारा, कवर्धा तहसील क्षेत्र के ग्रामीण एरिया में है। इन क्षेत्र के कई सड़कों में बड़े - बड़े गड्ढों के कारण आए दिन दुर्घटना हो रही है। इसी तरह ग्रामीण व निकाय क्षेत्र के भी सड़क खराब है। इन्हे सीसी रोड़ कहा जाता है। जिले के अन्य शहरी क्षेत्रों में लाखों रुपये की लागत से निर्मित की गई सड़कें लंबे समय तक टिक नहीं पा रही हैं। सड़कों के खस्ताहाल होने से राहगीरों का पैदल चलना तक दूभर हो गया है। कुछ सड़क ऐसी हैं, जिनका डामर गायब हो गया है।

सड़कें हल्की बारिश में कीचड़ में तब्दील हो जाती हैं। हर साल पंचायत व निकाय द्वारा सड़कों के निर्माण पर लाखों रुपये खर्च करती है, लेकिन स्थानीय लोगों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। कई जगहों में डामरीकृत सड़क का निर्माण कराया गया, जो पहली बारिश में ही उखड़ गई थी। इसके बाद मरम्मत के नाम औपचारिकता की गई।

स्टेट हाईवे गड्ढों में तब्दील

जिले के पोंड़ी से बिलासपुर तक गुजरने वाले हाईवे की अब हालात यह है। अब चलने लायक नहीं रह गया है। मरम्मत नहीं होने और भारी गाड़ियों के चलने की वजह से सड़क जगह -जगह गड्ढे में तब्दील हो गई है। इन सड़क पर गड्ढा दिख रहा है। बारिश में यह तालाब का रूप धारण कर ले रहा है और सूखा में उड़ती धूल के कारण सड़क दिखाई नहीं पड़ती है। शहर के मुख्य चौक चौराहों पर गड्ढे हो रहे हैं। पोंड़ी से लेकर पूरे बिलायपुर तक सड़क की स्थिति खराब है। यह सड़क पोडी से पांडातराई, पंडरिया होकर महली होते हुए सीधे मुंगेली जिले में जोड़ती है। इसके बाद मुंगेली से बिलासपुर जिला पड़ता है।

नहीं मिल रही सुविधा

जिले के एनएच से प्रतिदिन 500 से अधिक छोटी-बड़ी गाड़ियां गुजरती हैं। एक गाड़ी से सरकार प्रतिवर्ष 40 से 60 हजार रुपये टैक्स के रूप में वसूलती है, लेकिन सरकार सुविधा के नाम पर सड़क पर गड्ढा व धूल दे रही है। सड़क खराब होने के कारण गाड़ियों को नुकसान होता है। कहां टायर फटेगा, गुल्ला टूटेगा, पत्ती टूटेगी, एक्सल टूटेगा, क्राउन टूटेगा, चेचिस क्रेक होगा यह कहना मुश्किल है। रास्ते में कहां गाड़ियां खराब हो जाएंगी, कोई बता नहीं सकता है।

दुर्घटना का कारण बन रहा जर्जर मार्ग

शहर सहित आसपास ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को मजबुरीवश इस मार्ग से आवागमन करना पड़ रहा है, जो कई बार दुर्घटना का कारण भी बन जाता है। वाहन चालक रात को आवागमन करते समय गिरकर चोटिल हो रहे हैं। जर्जर सड़क का हालत देखकर स्थानीय लोग में भारी रोष है। अगर बरसात से पहले मार्ग की मरम्मत हो जाता है तो आसपास के ग्रामीणों को आने जाने में परेशानी नहीं होगी। मार्ग इतना खराब हो गया है कि जगह जगह लंबे चौड़े खाईनुमा गड्ढे बन गए हैं। जहां पर गड्ढे नहीं है वहां पर गिट्टी, बोल्डर व नुकीले पत्थर का बिखराव पड़ा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local