कवर्धा(नईदुनिया न्यूज)। छत्तीसगढ़ शासन की गोधन न्याय योजना को लेकर ग्रामीणों और किसानों में उत्साह है। इस योजना के तहत कबीरधाम जिले के गौठानों में नियमित रूप से गोबर की खरीदी हो रही है। गौठानों से जुड़ी महिला स्व-सहायता समूहों गोबर से वर्मी कम्पोस्ट खाद के उत्पादन में जुटी है। जिले के सभी गौठानों में गोबर की खरीदी और वर्मी खाद तैयार करने की प्रक्रिया सुचारू रूप से चल रही है। कबीरधाम जिले के विकासखण्ड सहसपुर लोहारा के ग्राम विरेन्द्र नगर की 10 सदस्यी महिला समूह ने जैविक खाद बेचकर अब तक 2 लाख 19 हजार 800 रुपये की आय अर्जित की है। गोधन न्याय योजना से विरेंद्र नगर की संस्कार आत्मा महिला स्व. सहायता समूह ने यह सिद्घ किया है कि यदि किसी भी काम को लगन से किया जाए तो उसका परिणाम सुखद ही होता है।

समूह की अध्यक्ष हेमलता कौशल, सचिव बिसन देवी कौशल ने बताया कि विरेंद्र नगर गौठान से 129 क्विंटल कंपोस्ट खाद्य का उत्पादन किया गया है। जिसे बेचकर एक लाख 15 हजार रुपये की आमदनी अर्जित की गई है। साथ ही चार क्विंटल केचुआ बेचकर एक लाख चार हजार आठ सौ रुपये आय अर्जित हुई है। समूह की महिलाओं ने बताया कि कृषि विभाग द्वारा वर्मी कम्पोस्ट खाद तैयार करने का नियमित प्रशिक्षण दिया जाता रहा है और आवश्यकता अनुसार सभी तकनीकी सहयोग दिया गया। जैविक खाद्य बनाने का कार्य विरेंद्रनगर गौठान में निरंतर जारी है तथा हम 10 सदस्यी समूह कि महिलाओं को लाभ हुआ है। उन्होंने बताया कि समूह की महिलाएं गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाली गृहणी है, जो कभी अपने दैनिक जरूरतों के लिए परेशान हुआ करती थी। जब से शासन द्वारा गौठान विकास का कार्य करते हुए गोधन न्याय योजना के माध्यम से गोबर खरीदी और खाद उत्पादन को बढ़ावा दिया गया है तब से हमारे आजीविका के नए रास्ते खुले है। अब हम महिलाएं जैविक खाद्य तैयार करते में सक्षम हो गई है और गौठान में इसका निरंतर उत्पादन कर रहीं है।

गौधन योजना से खुला रोजगार का द्वार

कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने बताया कि गोधन न्याय योजना बहुत कारगर साबित हो रही है। वैश्विक महामारी कोरोना काल के दौरान ग्रामीणों के लिए आमदनी का बेहतर स्त्रोत बन कर उभरा है। जिसके कारण ग्रामीण अर्थव्यवस्था बनी हुई है। गौठान में गोबर खरीदी से अनेक प्रकार के रोजगार सृजन हुए है। प्रत्यक्ष रूप से गोबर बेचकर ग्रामीण लाभ कमा रहे हैं और गोबर से जैविक खाद और अन्य उपयोगी वस्तुओं का निर्माण कर महिला स्व. सहायता समूह भी लाभ कमा रही है।

जिले में अब तक दो हजार 680 ग्रामीणों ने पंजीयन कराया

जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम के. ने बताया कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के साथ-साथ ग्रामीणों की आमदनी बढ़ाने के लिए राज्य शासन के महत्वकांक्षी गोधन न्याय योजना सफल होता दिख रहा है। जिले के सभी 224 गौठानों में व्यापक पैमाने पर ग्रामीणों से गोबर की खरीदी गौठान प्रबंधन समिति द्वारा की जा रही है। योजना प्रारंभ से अब-तक ऐसे बहुत से उदाहरण सामने आए है जिसमें गोधन न्याय योजना के लाभार्थियों ने इस योजना से मिले लाभ के कारण अपनी इच्छाओं की पूर्ति की है। उन्होंने बताया कि गोधन न्याय योजना के लिए 2 हजार 680 ग्रामीणों ने पंजीयन कराया है। योजना के प्रारंभ से अब-तक 9948.224 टन गोबर की खरीदी की जा चुकी है। जिसके एवज् में ग्रामीणों को 1 करोड़ 99 लाख 50 हजार रूपये का भुगतान उनके बैंक खाते में जारी किया जा चुका है तथा शेष राशि जारी किया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस