पोंडी। पतंजलि योग पीठ हरिद्वार से योग गुरु स्वामी रामदेव के शिष्य यज्ञऋषि स्वामी विप्रदेव महाराज के सानिध्य में पर्यावरण की शुद्घि और स्वास्थ्य के लिए यज्ञमय योगचित्सा शिविर का आयोजन वनांचल समीपस्थ रामचुवा मंदिर प्रांगण में किया गया। जिसमें योग के साथ-साथ यज्ञ को चिकित्सा के रुप से सम्मिलित किया गया। इस शिविर में मुख्यतः आजादी के 75 वें अमृत महोत्सव पर होने वाले 75 करोड़ सूर्य नमस्कार का अभ्यास कराया और उसके लाभ को बताया गया।

स्वामी विप्रदेव महाराज ने यज्ञ महिमा का विशेष वर्णन करते हुए कहा कि यज्ञ मात्र कर्मकांड की वस्तु नहीं है, अपितु बहुमुखी चिकित्सा पद्घति भी है। उन्होंने अनेक विज्ञानियों व विद्वानों द्वारा यज्ञ पर शोध के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अग्नि में पदार्थ को डालने से उसकी शक्ति क्षेत्रफल और गुणात्मक दृष्टि से हजारों गुना बढ़ जाती है, वहीं रोग फैलाने वाली बैक्टीरिया को नष्ट करने की शक्ति यज्ञ में होती है। प्राचीनकाल में ऋषि मुनियों ने चिकित्सा के रूप में यज्ञ को अपनाया था वह विधा आज भी बहुत ही जरूरी है। उन्होंने वेदों और पुरानों में वर्णित यज्ञ के स्वरुप एवं इतिहास को बताया और कहा कि यज्ञ आध्यात्म प्रेरक के साथ-साथ यज्ञ सुगन्धि प्रदायक है। कृषि उत्पादक, विभिन्ना रोग निवारक , ग्लोबल वॉर्मंिग शामक भी हैं।

शिविर में पतंजलि अध्यक्ष, भारत स्वाभिमान जिला संयोजक राजकुमार वर्मा, पतंजलि किसान सेवा समिति छग प्रभारी गणेश तिवारी, महिला पतंजलि योग समिति जिला प्रभारी उमा भारती चंद्रवंशी, योग निरीक्षक रामावतार आर्य,योग प्रचारक शिवकुमार आर्य, रोहित जयसवाल अजय , हजारी चंद्रवंशी सहित पतंजलि के पांचों संगठन के योग साधक उपस्थित रहे। शिविर को सफल बनाने में ग्राम पंचायत बेंदरची सरपंच जन प्रतिनिधि संजय पटेल, केसरिया हिंदू वाहिनी जिला अध्यक्ष नंद श्रीवास, उप सरपंच भगत पटेल, पंच अश्वन साहू, भोमदेव मंडल अध्यक्ष गुलाब साहू, ओंकार राजपूत, बजरंगदल ग्राम जैतपुरी, ग्रामीण युवक, हेरम पटेल, हिरालाल पटेल, योग शिक्षक हरिराम साहू, भगवती पटेल, गौरी विश्वकर्मा शास,उधातर माध्य.विद्यालय खैरबना कला के राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवकों सहित ग्रामीणों का विशेष सहयोग रहा।

बाक्स

जीवन में यज्ञ को अपनाने से वातावरण रहेगा शुद्ध

वेदों में यज्ञ के उल्लेख को बताते हुए स्वामी विप्रदेव महाराज ने कहा कि यह इस भुवन का केंद्र है। इसलिए दैनिक जीवन में यज्ञ को अपनाने से वतावरण शुद्घ रहेगा और व्यक्ति स्वस्थ रहेगा। यज्ञ के विज्ञानी लाभ पर विशेष संवाद किया गया। इस प्रकार इस शिविर में योग, यज्ञ के साथ साथ और अंतिम में पौधारोपण भी किया गया। शिविर में नियमित योग कक्षा ग्राम जैतपुरी रामचुवा के बाल योग साधकों द्वारा योग प्रदर्शन किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local