पसान (नईदुनिया न्यूज)। कटघोरा वन मंडल के पसान रेंज में हाथियों का उत्पात फिर बढ़ने लगा है। बुधवार को 15 हाथियों दल ने पांच एकड़ खेत में रोपाई के लिए लगे थरहा को तहस नहस कर दिया। किसान को फिर से बोआई करनी पड़ेगी। पिछले सप्ताह भर से हो रहे उत्पात में दल ने चार किसानों के 10 एकड़ भी अधिक फसल को नुकसान पहुंचाया है।

कटघोरा वनमंडल के पसान रेंज के अंतर्गत ग्राम परला, बनिया तथा सिंदुरगढ़ में हाथियों का अलग-अलग दो दल विचरण कर रहा है। इस दल में चार दंतैल हाथी भी शामिल हैं जो दल की अगुवाई करते हैं। ग्रामीणों ने बताया कि हाथी दिन समय खेतों में फसल को नुकसान पहुंचाते हैं और रात में गांव में पहुंचकर उत्पात मचाते हैं। सप्ताह भर के भीतर चार ग्रामीणों के घर तोड़ चुके हैं। हाथियों के उत्पात से परेशान ग्रामीणों द्वारा इस समस्या के समाधान की लगातार मांग की जा रही है लेकिन निदान के नाम पर केवल आश्वासन ही मिल रहा है। जान माल की रक्षा के लिए ग्रामीणों को रतजगा करना पड़ रहा है। सिंदुरगढ़ में विचरण कर रहे 15 हाथियों के दल ने बीती रात उत्पात मचाते हुए अर्जुन सिंह नामक ग्रामीण के खेत में लगे हाइब्रिड धान के थरहा को बुरी तरह रौंद दिया। अर्जुन ने बताया कि उसने पांच एकड़ खेत में बोआई के लिए थरहा तैयार किया था। बारिश का इंतजार कर रहा है। एक दो दिन के भीतर रोपाई होने वाली थी। ऐन मौके पर हाथियों फसल को नष्ट कर दिया है। रोपाई के लिए अब उसे फिर से बोआई करनी पड़ेगी। जब तक थरहा फिर से तैयार होगा तक तक रोपाई का सीजन निकल जाएगा। समय पर रोपाई नहीं होने से उत्पादन पर असर होगा। यह समस्या केवल अर्जुन की ही नहीं बल्कि कोरबी परला के भी ग्रामीणों की है।

मारहवाही रेंज से आना जाना जारी

हाथियों के दल का पेड्रा- गौरेला वन मंडल के मारवाही रेंज से आना जाना जारी हैं। विडंबना यह है कि कटघोरा वन मंडल के कर्मचारी दल को मारवाही रेंज खदेड़ते हैं वहीं मारवाही के वन कर्मी उसे पसान रेंज राह दिखाते हैं, इस बीच में बौखलाए दंतैल आवास और फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं। प्रभावित गांवों में मुनादी करा दी गई है। जंगल के निकट बस्ती से दूर आवास में रहने वालों को स्कूल व आंगनबाड़ी में ठहराया गया है। पसान क्षेत्र में पिछले डेढ़ साल से हाथियों का उत्पात जारी है। स्थाई निदान नहीं होने के कारण स्थानीय ग्रामीणों को नुकसान झेलना पड़ रहा है।

कोरबा वनमंडल में लोनर हाथी का दहशत

कोरबा वनमंडल के कुदमुरा व करतला रेंज में दो लोनर हाथी अलग अलग जगहों में विचरण कर रहे हैं। इनमें से एक दंतैल गुरूवार की सुबह करतला के पास टीमनभौना में देखा गया जबकि दूसरा हाथी कुदमुरा जंगल में घूम रहा है। वनोपज एकट्ठा करने जाने वालों को चेतावनी दी गई है कि वे जंगल न जाएं। महुआ सीजन में हाथी ने एक बुजुर्ग महिला की जान ले ली थी। वन अमले की टीम ने हाथियों पर निगरानी शुरू कर दी है। हाथियों का विचरण क्षेत्र गांव के निकट होने होने से ग्रामीणों में भय व्याप्त है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags