कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले के पांच विकासखंडों में पोड़ी उपरोड़ा के बाद अब पाली भी कोरोना मुक्त हो गया है। करतला, कोरबा और कटघोरा में 23 सक्रिय मरीज अब भी शेष है। संक्रमितों की संख्या में कमी आने के साथ इएसआईसी कोरोना अस्पताल मरीजों से खाली हो गया है। ऐसे में माना जा रहा है कि जिले में एक भी मरीज गंभीर नही है। सभी संक्रमित होम आइसोलेशन में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।

कोरोना मरीजों की तादाद में लगातार कमी आ रही है। पोड़ी उपरोड़ा और पाली में संक्रमितों की संख्या शून्य होने से स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अलावा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में जांच अब भी जारी है। सप्ताह में औसतन दो से तीन संक्रमित पाए जा रहे हैं। स्वस्थ हो रहे संक्रमितों की संख्या अधिक होने से मरीजो में लगातार कमी रही है। संक्रमितों की संख्या पर गौर करे तो वर्तमान में सबसे अधिक 14 संक्रमित कोरबा में हैं। घनी आबादी होने के कारण संक्रमितों की संख्या यहां शुरुआत से ही अधिक रही है। कोरबा ग्रामीण क्षेत्र पहले कोरोना मुक्त हो गया था, लेकिन सप्ताह भर के भीतर छह नए संक्रमित मिल गए हैं। शहरी क्षेत्र में आठ मरीज शेष हैं। इधर कटघोरा में छह और करतला में तीन लोग संक्रमण के दायरे में हैं। जिले भर में अब तक 544317 लोग संक्रमण के दायरे में आ चुके हैं, इनमे 53412 स्वथ्य हो चुके हैं। नए संक्रमितों में सभी मरीजों की स्थिति सामान्य है। सरकारी अथवा निजी अस्पतालों में एक भी संक्रमित दाखिल नही होने से माना जा रहा कि जिले में एक भी गंभीर मरीज नही है।

उमड़ती भीड़ में सावधानी जरूरी

त्यौहारों के दौरान शहर में उमड़ती भीड़ में संक्रमण से बचने के लिए सावधानी बहुत जरूरी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार खतरा अब भी बरकरार है। बिना मास्क के बाहर निकलने वालों की संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही। लापरवाही अब भी किसी समय भारी पड़ सकती है। व्यावसायिक प्रतिष्ठानों व बाजारों में कोविद नियम का उल्लंघन पर नियंत्रण नही है। जिले में अब तक कोरोना से 882 लोगों की मौत हो चुकी है।

टीकाकरण अभियान में प्रगति

पखवाड़े भर से वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता से कोविद टीकाकरण अभियान में प्रगति देखी जा रही है। समय रहते वैक्सीन की आपूर्ति होने से पहले की तरह समस्या नहीं है। 45 से अधिक आयु वर्ग के 3.90 लाख लोगों को वैक्सीन का पहला डोज लगाया जा चुका है। इसी आयु वर्ग के 1.98 लाख लोग दोनों डोज लगवा चुके हैं। 18 से 45 वर्ष आयु वालों में ढाई लाख से भी अधिक लोगों ने पहला डोज लगवा लिए हैं।

--------------

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local