कोरबा। नईदुनिया प्रतिनिधि

कोल माइंस पेंशन योजना में संशोधन नहीं करने पर सेवानिवृत्त कर्मियों में आक्रोश व्याप्त है और कर्मियों ने आल इंडिया पेंशनर्स एसोसिएशन के बैनर तले आल इंडिया एसोसिएशन ऑफ कोल एग्जीक्यूटिव के साथ सोमवार को दिल्ली में जंतर-मंतर के समक्ष एक दिवसीय धरना दिया। इस दौरान पेंशनरों ने कहा कि सेवानिवृत्ति के पहले मिलने वाले वेतन के बेसिक का 50 फीसदी पेंशन के रूप में दिया जाना चाहिए।

आंदोलन में एसईसीएल समेत अन्य कंपनियों से सेवानिवृत्त हुए अधिकारी-कर्मचारी एक दिन पहले ही दिल्ली पहुंच गए थे और बैठक कर अपनी जायज मांग लेकर चरणबद्ध आंदोलन बढ़ाने की रूपरेखा तैयार की। एसोसिएशन के संयोजक पीके सिंह राठौर ने बताया कि इस आंदोलन में पूरे देश से सेवानिवृत कर्मचारी-अधिकारी शिरकत किए। सेवानिवृत्त कोलकर्मियों के पेंशन को प्रत्येक तीन वर्ष में संशोधन किया जाना है, पर 21 साल पहले शुरू इस योजना की अभी तक समीक्षा नहीं की गई। इससे कई सेवानिवृत्त कर्मियों को एक से तीन हजार रुपये पेंशन के रूप में मिल रहे हैं, इसलिए सेवानिवृत्त कर्मियों को आंदोलन का रास्ता अख्तियार करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के जंतर मंतर में सोमवार को सुबह 10 बजे से धरना देने के साथ ही आमसभा संबोधित की गई। पेंशनरों की मांग है कि पेशन योजना में उपयुक्त संशोधन किया जाए और इसका लाभ कट-ऑफ तिथि से निश्चित हो, ताकि पेंशनभोगी को फायदा मिल सके। इसी तरह सेवानिवृत होने वाले कर्मियों के बेसिक की 50 फीसदी राशि पेंशन के रूप में मिलनी चाहिए। इस दौरान पीके सिंह राठौर, अब्दुल कलाम, जेबी दत्ताट्रेलू, बाबूराव, दिनकर साहू, डीआर जावड़े, एमजेड अली, एडी कौरव उपस्थित रहे। उल्लेखनीय है कि एसईसीएल समेत कोल इंडिया की अन्य अनुषांगिक कंपनी में कार्यरत कर्मियों के लिए वर्ष 1994 से पेंशन योजना शुरू की गई। कोल माइंस पेंशन योजना के नाम से शुरू की गई पेंशन योजना का हर तीन साल में समीक्षा किया जाना था, पर अभी तक समीक्षा नहीं की गई। इससे कंपनी की सेवा से वर्ष 1997 में सेवानिवृत्त हुए अधिकारी को महज एक से तीन हजार रुपये मासिक पेंशन मिल रही है। वहीं वर्ष 2007 के बाद सेवानिवृत कर्मियों को वेतन वृद्धि होने से दस हजार रुपये पेंशन मिल रही है। वर्तमान में सीएमपीएफ में लगभग 4.5 लाख सेवानिवृत अधिकारी-कर्मचारी पंजीकृत हैं और इनकी पेंशन की समीक्षा भी नहीं हो सकी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket