कोरबा । एक निजी कंपनी में नौकरी दिलाने के नाम पर 200 बेरोजगारों से लाखों की ठगी करने का मामला सामने आया है। ठगे गए युवकों ने इसकी शिकायत मानिकपुर पुलिस चौकी में की है। पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला पंजीबद्ध किया है। एक आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। वहीं एक फोटो कापी की दुकान को पुलिस ने सील करने की कार्रवाई की है। इसका संचालक फरार हो गया है और उसकी पतासाजी की जा रही है।

महाराष्ट्र के नागपुर का रहने वाला प्रमोद रावत काफी समय से कोरबा में रहते हुए एमएसके कंपनी में भर्ती चलने की बात कह बेरोजगरों को झांसा दिया। काफी समय में उसने प्रचार प्रसार कर लोगों को जाल में फंसाया। लोगों ने नौकरी पाने के लिए रावत को तीस हजार तक रकम दी। काफी समय के बाद लोगों को ठगे जाने का एहसास हुआ। शिकायतकर्ता सतीश श्रीवास ने बताया कि उसे अपने दोस्तों से पता चला कि एसईसीएल की निजी कंपनी में नौकरी लगवाने के लिए प्रमोद रावत पैसे लेकर काम लगवा रहा है, जो उचित पहुंच रखता है। जिसके बाद उसने उससे संपर्क कर पैसे पैसे दिया और उसके बदले नियुक्ति पत्र के साथ हेलमेट व जूता प्रदान किया गया। एसईसीएल में काम पर जाने के बाद पीड़ित को पता चला कि उसे फर्जी लेटर थमा दिया गया है। जिसके बाद इस मामले की शिकायत मानिकपुर चौकी में की गई और प्रमोद रावत को पकड़ा गया और पूछताछ की गई तो पता चला कि एक नहीं बल्कि 200 से अधिक लोगों से नौकरी लगाने के नाम पर पैसा ले चुका है। अब कई पीड़ित सामने आने लगे हैं। मानिकपुर चौकी पुलिस ने जब जांच कार्रवाई शुरू की और मुड़ापार स्थित उसके कार्यालय व संजय नगर स्थित किराए के मकान पर दबिश दी तो उसके पास कई फर्जी लेटर व वर्दी टोपी कंप्यूटर और कई दस्तावेज बरामद किए गए। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने बताया कि आरोपी ने कई लोगों से नौकरी लगाने के नाम पर पैसा की वसूली की है। पीड़ित की शिकायत पर मामला दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है। साइबर सेल की मदद ली जा रही है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close