कोरबा। आतंक का पर्याय बन चुके गणेश नामक हाथी कोरबा व धर्मजयगढ़ वन मंडल में अब तक 10 लोगों की जान ले चुका है। सोमवार की देर रात गणेश धरमजयगढ़ से कोरबा मंडल के कुदमुरा रेंज पहुंच गया। जैसे ही इसकी सूचना डीएफओ एस वेंकटचलम को मिली वे दल बल सहित कुदमुरा जा पहुंचे और पूरी रात आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में मुनादी कर धनतल हाथी की ट्रैकिंग करते रहें, ताकि किसी तरह की जनधन की हानि ना हो।

कल सुबह गणेश करतला वन परिक्षेत्र के ग्राम चांपा के आसपास विचरण कर रहा है खतरे के अंदेशे को देखते हुए वन विभाग की आधा दर्जन पेट्रोलिंग टीम गणेश नामके इस हाथी की निगरानी कर उसे जंगल की ओर खदेड़ने के प्रयास में जुटी है।

बताया जा रहा है कि यह हाथी बहुत ही आक्रामक है जिसे लेकर बिलासपुर सर्किल में वन विभाग के अधिकारी भी सकते में हैं। इसे ट्रेंकुलाइज करने के लिए लगातार टीम लगी हुई है, लेकिन उसके बाद भी सफलता नहीं मिल रही है। बताया जाता है कि चंद मिनटों में ही यहां थी बहुत दूरी तय कर लेता है जिसकी वजह से उसे ट्रैकिंग कर पाना भी वन विभाग के लिए इस मुसीबत से कम नहीं है।