कोरबा । उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद के एक आलू व्यापारी की हत्या एक हमाल ने कर दी। करीब 24 घंटे तक शव को घर पर ही रखा। उसके बाद दो अन्य साथियों के साथ बाइक में शव को लेकर अहिरन नदी में फेंक दिया। पुलिस ने इस अंधे कत्ल के मामले में सभी तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।

20 सितंबर को कोरबा जिला के कटघोरा थानांतर्गत आने वाले ग्राम जुराली के पास अहिरन नदी में एक 50 वर्षीय व्यक्ति की संदिग्ध अवस्था में लाश मिली। सबसे पहले धर्मेंद्र जायसवाल नामक व्यक्ति पर पड़ी। इसकी सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की। इस दौरान मृतक की पहचान उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद के थाना माखनपुर क्षेत्र निवासी थानसिंह के रूप में की गई। वह दो-तीन महीने में थोक में आलू आपूर्ति करने आया करता था। आलू की बोरियां खाली करने वाले हमालों से भी उसकी दोस्ती हो गई थी। कुछ दिन लाज में ठहरकर व्यवसाइयों को आलू खपाने के बाद वापस लौट जाता था।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर गला दबा कर हत्या करने की पुष्टि हुई। पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू की तो पता चला कि अंतिम बार उसे पूछापारा निवासी छत्रपाल यादव के साथ देखा गया था। उससे पूछताछ की गई तो उसने हत्या किए जाने का अपराध कबूल कर पूरी कहानी बयां कर दिया। कटघोरा एसडीओपी (पुलिस) ईश्वर त्रिवेदी ने बताया कि 18 सितंबर को छत्रपाल के घर में बैठकर थान सिंह ने शराब का सेवन किया था। शराब कम पड़ने पर पैसे देकर और शराब लाने भेजा। छत्रपाल के जाते ही उसने उसकी पत्नी के साथ अभद्रता की।

इसकी जानकारी छत्रपाल को वापस लौटने पर मिली तो थान सिंह के गुप्तांग में जोरदार लात मारी। इसकी वजह से वह दर्द से बिलखने लगा। गुस्से में छत्रपाल ने उसका गला घोंट दिया और उसकी मौत हो गई। पुलिस के अनुसार आरोपित 24 घंटे शव को घर पर रखा और 19 सितंबर की रात को दो अन्य हमाल साथी इंद्रपाल व बाबूलाल यादव दोनों आमाखोखरा निवासी के साथ मिलकर शव को पहले कंबल में ढंका और बाइक में रख नजदीक के अहिरन नदी ले गए। यहां कंबल निकाल कर शव को नदी में फेंक दिए। पुलिस ने तीनों आरोपितों को हत्या व षडयंत्र के अपराध में गिरफ्तार कर लिया है। अपराध में उपयोग की गई बाइक भी जब्त कर ली गई है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close