कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। प्राकृतिक संपदा को सम्पुष्ट करने ,पर्यावरण को संरक्षण करने तथा लोक स्वास्थ्य परंपरा संवर्धन अभियान के अंतर्गत आयुर्वेद मनीषी आचार्य बालकृष्ण के जन्मदिवस को जड़ी बूटी दिवस के रूप में मनाया गया। इस दौरान पांच हजार से अधिक पौधों का निश्शुल्क वितरण के साथ ही उसके संबंध में जानकारी दी गई।

पतंजलि चिकित्सालय निहारिका में आयोजित इस कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ राज्य कायकारिणी सदस्य पतंजलि युवा भारत संजय कुर्मवंशी के मुख्य आतिथ्य, अंकुरण फाउंडेशन के डायरेक्टर अंकित शर्मा की अध्यक्षता व डा राजेश राठौर कोरबा जिला महामंत्री प्रधानमंत्री जनकल्याण प्रचार प्रसार जागरूकता अभियान तथा शांता मडावे सचिव लायंस क्लब कोरबा एवरेस्ट के विशिष्ट आतिथ्य में उपस्थित रहे। सभी अतिथियों ने भारत माता एवं आयुर्वेद प्रवर्तक भगवान धन्वंतरी के तैल्य चित्र पर माल्यार्पण कर एवं आचार्य बालकृष्ण तथा स्वामी रामदेव के तैल्य चित्र पर तिलक कर दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया । उसके पश्चात सभी अतिथियों का स्वागत औषधीय पौधों भेंट कर पतंजलि चिकित्सालय के संचालक डा नागेंद्र नारायण शर्मा व उनके पुत्र हर्ष नारायण शर्मा ने किया। अध्यक्षीय उद्बोधन अंकित शर्मा ने दिया। औषधीय पौधों का वितरण कार्य को परोपकारी व पुण्यकारी है। विशिष्ट अतिथि डा राजेश राठौर व शांता मडावे ने जड़ी बूटी दिवस पर औषधीय पौधों के वितरण कार्यक्रम की प्रशंसा की। सभी अतिथियों ने अपने हाथों से औषधीय पौधों का वितरण भी जन समुदाय को किया। औषधीय पौधों में गिलोय, तुलसी, नीम, एलोवेरा, आंवला, अडूसा व पारिजात के अलावा 35 प्रकार के उपयोगी पौधों का वितरण कर उनके प्रयोज्य अंगों, प्रयोग विधि एवं लाभ के बारे में जानकारी भी पतंजलि योगपीठ हरिद्वार से प्रशिक्षित वैद्य डा नागेंद्र नारायण शर्मा ने प्रदान की। साथ ही निशुल्क चिकित्सा परामर्श के साथ साथ जरूरतमंदों को निश्शुल्क औषधियां भी प्रदान की गई। इस जड़ी बूटी दिवस वितरण में योग शिक्षक राजेश प्रजापति, हरनारायण साहू, मनोज अग्रवाल (मन्नाी), नंदलाल विरानी, सरोजनी गोयल, अनिता, यादराम साहू, जयप्रकाश अग्रवाल, शिव जायसवाल, आदिल खान, हितेश अग्रवाल, राकेश इस्पात, रोशन कुंजल, रघु कंवर, सिद्धराम साहनी, हर्ष नारायण शर्मा के अलावा प्रतिभा शर्मा ने विशेष रूप से उपस्थित रहे। संचालक चिकित्सक नागेंद्र नारायण शर्मा ने सभी अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट कर आभार प्रदर्शित किया।

पहला सुख निरोगी कायाः कुर्मवंशी

मुख्य अतिथि संजय कुर्मवंशी ने पहला सुख निरोगी काया को बताते हुए औषधीय पौधों की उपयोगिता बताई। गिलोय, नीम, तुलसी, एलोवेरा व आंवले को धरती के पांच अमृत बताते हुए कहा कि इनका दैनिक जीवन में नित्य उपयोग करने वाले व्यक्ति कभी भी रोगी नही होता। उन्होंने उपस्थित लोगों को इसके नित्य उपयोग करने की सलाह भी दी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local