कोरबा। फिल्म शोले के वीरू की तरह पानी टंकी पर दीपका परियोजना का एक सहायक इंजीनियर जा चढ़ा और अपने मनपसंद स्थान पर पदस्थापना करने की मांग करने लगा। यही नहीं वह एक वरिष्ठ अधिकारी को हटाने की जिद पर अड़ा रहा। मांग पूरी नहीं होने पर 70 फीट उंची पानी टंकी से छलांग लगा देने की चेतावनी देता रहा। पुलिस विभाग के उपनिरीक्षक व एसईसीएल (साउथ इस्टर्न कोलफिल्ड्स लिमिटडे) के एक महाप्रबंधक स्तर के अधिकारी पानी टंकी के उपर चढ़े और समझाइश देकर नीचे उतारे।

एसईसीएल की दीपका परियोजना के आटो सेक्शन वर्कशाप में सुबह 11.30 बजे नियमित व ठेका मजदूर अपना काम निपटा रहे थे, तभी वहां कार्यरत सिविल विभाग के इ-वन ग्रेड का सहायक इंजीनियर एनके तिवारी ने ठेका मजदूरों से कहा कि जाओ अधिकारी व अपने शिफ्ट इंचार्ज से बता दो कोई आदमी पानी टंकी में चढ़ गया है और कूदने की कोशिश कर रहा है। ठेका मजदूरों को उसकी यह बात पहले समझ में नहीं आई, पर तिवारी जब पानी टंकी में चढ़ने लगा, तब मजदूरों का माथा ठनका और उन्होने भाग कर शिफ्ट इंचार्ज समेत अन्य लोगों को जानकारी दी। जब तक अधिकारी अन्य लोग स्थल पर पहुंचते, तब तक तिवारी टंकी के उपर चढ़ चुका था और वहां से कूदने की धमकी देने लगा।

डिप्टी जीएम रेंक के अधिकारी का स्थानांतरण करने व मनपसंद जगह में पदस्थ करने की मांग करने लगा। उपस्थित लोगों ने उसे समझाइश की कोशिश की दी, पर वह अपनी बात पर अड़ा रहा। इस बीच कुछ लोगों ने दीपका पुलिस व महाप्रबंधक खनन शशांक देवांगन समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दी। जानकारी मिलते ही पुलिस व देवांगन भी वर्कशाप पहुंच गए। नीचे से समझाइश देते हुए नीचे उतरने कहा गया, लेकिन बात नहीं सुनने पर दीपका थाना में पदस्थ उपनिरीक्षक व देवांगन पानी टंकी में उपर चढ़े और चर्चा करने समझाते हुए तिवारी को नीचे उतार कर लाए। लगभग डेढ़ घंटा तक चले इस ड्रामा का पटाक्षेप नीचे उतरने के बाद हुआ और उपस्थित लोगों ने राहत की सांस ली। बाद में तिवारी को पुलिस अपने साथ ले गई। दीपका थाना प्रभारी का कहना है कि नाराज तिवारी को उतार लिया गया है। वह टंकी में क्यों चढ़ा, इस बारे में एसईसीएल के अधिकारी ही बता सकते हैं। वह अपने विभागीय कामकाज कोे लेकर नाराज था। मामले में पूछताछ की जा रही है।

प्रबंधन ने नहीं की कोई कार्रवाई

ड्रामा करने वाले सहायक इंजीनियर के खिलाफ प्रबंधन ने कोई कार्रवाई नही की है। अधिकारी की इस कार्यप्रणाली को लेकर कर्मियों का कहना है कि यदि यह हरकत किसी कर्मचारी ने की होती, तो उसे तत्काल निलंबित कर विभागीय जांच शुरू कर दी जाती। एक अधिकारी द्वारा अनुशासन तोड़ते हुए ड्यूटी के दौरान पानी टंकी में चढ़ कर हाइवोल्टेज ड्रामा करने के इस मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रबंधन को विभागीय स्तर पर कार्रवाई करनी चाहिए।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close