कोरबा (नईदुनिया न्यूज)। राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि भाजपा के लोग व उनके हितैषी नेशनल हेराल्ड को दिए गए 90 करोड़ रुपये के ऋण को अपराधिक कृत्य के रूप में मान रहे हैं। ऐसा वह विवेकहीनता और दुर्भावना से अभिप्रेत होकर कह रहे हैं, यह सर्वथा अस्वीकार्य है। किसी भी राजनीतिक दल द्वारा ऋण देना भारत में किसी भी कानून के तहत एक आपराधिक कृत्य नहीं है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी व सोनिया गांधी को इडी द्वारा नोटिस दिए जाने व राहुल गांधी को लगातार इडी कार्यालय बुलाकर बेवजह परेशान करने पर देशभर के वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिल्ली पहुंचे थे। छत्तीसगढ़ से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, मोहन मरकाम, सांसद ज्योत्सना महंत, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल समेत अनके कांग्रेस नेता दिल्ली पहुंचे थे। इस मामले में राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि नेशनल हेराल्ड समाचार पत्र की स्थापना पं. जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल, पुरुषोत्तम टंडन, आचार्य नरेंद्र देव, रफी अहमद किदवई और अन्य नेताओं ने वर्ष 1937 में की। ताकि एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड नामक कंपनी को स्थापित करके देश में स्वतंत्रता आंदोलन को आवाज दी जा सके । वर्ष 1942 से 1945 तक अंग्रेजों द्वारा भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान इस समाचार पत्र को प्रतिबंधित कर दिया गया था, जिसे महात्मा गांधी ने राष्ट्रीय आंदोलन के लिए एक त्रासदी के रूप में वर्णित किया था। इस समाचार पत्र की संपादकीय उत्कृष्टता के बावजूद, नेशनल हेराल्ड समाचार पत्र निरंतर आर्थिक रूप से घाटे में चला गया। परिणाम स्वरूप देय बकाया राशि 90 करोड़ रुपए तक पहुंच गई। नेशनल हेराल्ड समाचार पत्र की सहायता के लिए कांग्रेस पार्टी ने वर्ष 2002 से लेकर 2011 के दौरान लगभग 100 किश्तों में 90 करोड़ रुपये का ऋण दिया। उन्होंने बताया कि किसी भी राजनीतिक दल द्वारा ऋण देना भारत में किसी भी कानून के तहत एक आपराधिक कृत्य नहीं है। फिर कांग्रेस पार्टी द्वारा एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (1937 से कांग्रेस पार्टी से निकटता से जुड़ी और कांग्रेस की विचारधारा का समर्थन करने वाली कंपनी) को समय - समय पर कुल 90 करोड़ रुपये का ऋण देना कैसे एक आपराधिक कृत्य माना जा सकता है। इस ऋण को विधिवत रूप से कांग्रेस पार्टी के खातों की किताबों में दर्शाया गया था, जिसका विधिवत लेखा - जोखा किया गया और भारत के चुनाव आयोग को प्रस्तुत भी किया गया। नाट फार-प्राफिट की अवधारणा पर स्थापित किसी भी कंपनी के शेयर धारक- प्रबंध समिति के सदस्य कानूनी रूप से कोई लाभांश, लाभ, वेतन या अन्य वित्तीय लाभ नहीं ले सकते हैं। इसलिए सोनिया गांधी, राहुल गांधी या यंग इंडियन में किसी अन्य व्यक्ति द्वारा किसी भी प्राप्ति या वित्तीय लाभ का प्रश्न ही नहीं उठता।

सत्य की हमेशा विजय हुई है और इस बार भी होगी

राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि सोनिया गांधी, राहुल गांधी और हमारे नेतृत्व का इरादा स्पष्ट रूप से यह सुनिश्चित करने का है कि नैशनल हेराल्ड, जो कांग्रेस पार्टी की विरासत का प्रतीक है, उसके मूल्य हमेशा जीवित रहें और हमारे आदर्शों और सिद्धांतों को व्यक्त करने में नैशनल हेराल्ड हमारी आवाज बनी रहेगी। जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि यह सत्य की लड़ाई है। सत्य की हमेशा विजय हुई है और इस बार भी होगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close