कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सामुदायिक पुलिसिंग कार्यक्रम के अंतर्गत महिला परामर्श केंद्र में खाकी के रंग परिवार के संग अभियान के तहत 187 परिवारों को फिर से मिलाया गया। इस कार्य में लगे परिवार परामर्श केंद्र के अधिकारी कर्मचारी एवं काउंसलर्स का सम्मान करने के आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सांसद ज्योत्सना महंत ने कहा कि परिवार के बिना सब अधूरा है। सुखी परिवार सुखमय जीवन का आधार है। उन्होंने कहा कि आज वह सांसद के रूप में जनता की सेवा कर रही हैं तो इसका श्रेय उनके परिवार को जाता है।

राताखार स्थित एक निजी रिसोर्ट में कोरबा पुलिस परिवार द्वारा यह सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। पुलिस अधीक्षक भोजराम पटेल की अगुवाई में कोरबा पुलिस ने 187 परिवारों को फिर मिलाया है। दरकते रिश्ते और टूटते परिवारों को जोड़ने का काम किसी मसीहा से कम नही है। पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर संचालित खाकी के रंग परिवार के संग कार्यक्रम के तहत पारिवारिक विवादों का निपटारा किया गया है। इसके लिए पुलिस द्वारा काउंसलर्स नियुक्त किए गए हैं। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में सांसद ज्योत्सना महंत उपस्थित रही और उन्होंने परिवार की महत्ता के संबंध में उपस्थितजनों के मध्य अपने विचार साझा किए। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक भोजराम पटेल ने परिवार परामर्श केंद्र के एक वर्ष का प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए कहा कि उनके नजरों में परिवार मानव जाति का सबसे बड़ी पूंजी है। बिना परिवार स्वस्थ मानव जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। पटेल ने कहा कि कोरबा जिले में पुलिस अधीक्षक के रूप में पदस्थापना अवधि में परिवारिक विवाद के कुल 508 आवेदन प्राप्त हुए सभी में काउंसलिंग की गई, इनमें से 187 परिवारों को पुनः मिलाने में सफलता मिली है। कार्यक्रम में विधायक पुरुषोत्तम कंवर,पाली तानाखार विधायक मोहित राम केरकेट्टा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा, नगर पुलिस अधीक्षक योगेश साहू, उप पुलिस अधीक्षक यातायात शिवचरण सिंह परिहार, राज्य महिला आयोग की सदस्य अर्चना उपाध्याय, गौ सेवा आयोग के सदस्य प्रशांत मिश्रा, हरीश परसाई, निरीक्षक विवेक शर्मा, विजय चेलक, गायत्री शर्मा, राजीव श्रीवास्तव, रक्षित निरीक्षक अनथ राम पैकरा, सूबेदार भुनेश्वर कश्यप, उप निरीक्षक कृष्णा साहू, नवल साव, लालन पटेल समेत विभागीय अधिकारी कर्मचारी समेत काफी संख्या परिवारिक सदस्य उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close