कोरबा । साउथ इस्टर्न कोलफिल्ड्स लिमिटेड (एसईसीएल) कर्मी की ड्यूटी के दौरान दर्दनाक मौत हो गई। 10 टन क्षमता वाली क्रेन का टायर खोलते वक्त अचानक टायर ब्लास्ट हो गया और उसमें लगा डिस्क तेजी से उछला। इस घटना में कर्मचारी का सिर न केवल धड़ से अलग हो गया, बल्कि करीब पांच मीटर दूसरे क्रेन के चक्का के पास जा गिरा। घटना में एक विभागीय व एक ठेका मजदूर भी घायल हो गया है।

एसईसीएल दीपका महाप्रबंधक कार्यालय के ठीक सामने गुरूवार को दीपका विस्तार परियोजना की एक क्रेन क्रमांक 7816 बिगड़ गई। उसे दुरूस्त करने दोपहर तीन बजे एसईसीएल के मेंटेनेंस कर्मचारी व एटक के वेलफेयर कमेटी सदस्य लालदास खरे 53 वर्ष को मौके पर भेजा गया। उनके साथ कुछ अन्य विभागीय कर्मचारी व ठेका कर्मी भी मौजूद थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार लालजी क्रेन के पिछले चक्के का नट खोल कर चक्के को बाहर निकाल रहे थे। इस बीच अचानक तेज आवाज के साथ टायर में धमाका हो गया। इस घटना में टायर में लगा डिस्क निकल कर दूर जा फेंकाया। इसकी चपेट में लालदास का सिर आ गया और धमाका इतना तेज था कि सिर धड़ से उखड़ कर फेंका गया। जिसने भी यह घटना देखा वह स्तब्ध रह गया। बताया जा रहा है कि टायर उठाने एक अन्य क्रेन भी मौके पर भेजा गया था, जो करीब पांच मीटर दूर खड़ा था। लालजी उछल कर उस क्रेन के केबिन से टकरा पहिए के पास जा गिरे। जानकारों का कहना है कि ट्यूबयुक्त टायर क्रेन में लगा था। आमतौर पर अधिक हवा डलने की वजह से इस तरह की घटना होती है, पर माना जा रहा है कि वर्कशाप से निकलने से अधिक हवा डाल दिए जाने की वजह से प्रेशर बना और यह दुर्घटना हो गई। नट नहीं खुला रहता तो शायद इतनी बड़ी घटना नहीं होती। इस घटना में लालदास के साथ आए विभागीय कर्मी के हाथ में व एक अन्य ठेका मजदूर के पैर में चोंट लगी है। जिन्हें उपचार के लिए विभागीय अस्पताल में दाखिल कराया गया है। सूचना मिलते ही वरिष्ठ अधिकारी व विभागीय सुरक्षा कर्मी भी स्थल पहुंच गए। इस घटना की सूचना दीपका थाना में दी गई। पुलिस ने मर्ग का मामला कायम कर वैधानिक पूर्ण कर अंतिम संस्कार के लिए शव को स्वजनों के सुपुर्द कर दिया है।

पत्नी व पुत्र- पुत्री पर टूटा दुख का पहाड़

लालदास खरे इससे पहले एसईसीएल की भटगांव कोयला खदान में पदस्थ थे। अभी साल भर पहले ही स्थानांतरित होकर दीपका पहुंचे थे। दीपका कालोनी के आवास क्रमांक एमडी 420 दुर्गा मंदिर लाइन में पत्नी, एक पुत्र व एक पुत्री के साथ निवासरत थे। इस घटना से एसईसीएल कर्मियों में शोक व्याप्त है। जनरल शिफ्ट के लिए अन्य दिनों की भांति लालदास घर से निकले, पर उनकी लाश घर लौटी। अचानक हुई इस घटना की वजह से लालदास के स्वजनों का रो- रोकर बुरा हाल है।

विभागीय जांच के आदेश, डीएमएस की टीम पहुंची

इस घटना की विभागीय जांच के आदेश प्रबंधन ने जारी किया है। किन परिस्थितियों में यह हादसा हुआ। इसके लिए क्या कोई जिम्मेदार है। क्या इस घटना को रोका जा सकता था, समेत अन्य बिंदुओं पर स्थानीय अधिकारी जांच करेंगे। उधर इसकी सूचना डिप्टी डायरेक्टर माइंस आफ सेफ्टी (डीडीएमएस) व महाप्रबंधक सेफ्टी एंड रेस्क्यू को भी दे दी गई है। महाप्रबंधक एसके सिंह ने घटना स्थल पहुंच कर वस्तुस्थिति का जायजा लिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close