नईदुनिया, कोरबा। छत्तीसगढ़ के कोरबा जिला अस्पताल प्रबंधन की अमानवीयता सामने आई है। पांच दिन से एक युवक की लाश पोस्टमार्टम हाउस में रखी हुई है। परिजनों को कहा गया है कि मौत का कारण संदिग्ध है। कोरोना जांच रिपोर्ट के बाद ही शव को अंत्येष्टि के लिए सौंपा जाएगा। परिजन पांच दिनों से अस्पताल का चक्कर काटते रहे। अब उनसे कहा जा रहा है कि बातचीत के दौरान गफलत की वजह से ऐसा हुआ।

कोरोना जांच कराने की जरूरत नहीं है। जवान युवक की मौत का गम और उस पर इस संवेदनहीनता ने पीड़ित परिवार को झिंझोड़ कर रख दिया है। गुरसिया में रहने वाले सुखराम यादव सात-आठ माह से टीबी की बीमारी के चलते अस्वस्थ चल रहे थे। उनका इलाज स्थानीय स्तर पर ही परिजन करा रहे थे।

21 मई को उनकी तबीयत अचानक अधिक खराब हो गई। सांस लेने में तकलीफ हुई। परिजन उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पोड़ी-उपरोड़ा लेकर गए। यहां से उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया, लेकिन रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया। जिला अस्पताल पहुंचने पर चिकित्सकों ने मृृत घोषित कर दिया। चिकित्सक ने परिजनों से पूछताछ की तो पता चला सांस लेने में तकलीफ हो रही थी।

यह सुन चिकित्सक ने मौत को संदिग्ध मानते हुए कोरोना टेस्ट की पर्ची लिख दी। शव को पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया गया। सोमवार को सुखराम का बड़ा भाई महेश यादव व कुछ अन्य परिजन जिला अस्पताल पहुंचे। तब चिकित्सकों ने बताया कि मंगलवार को पोस्टमार्टम प्रक्रिया पूरी करने के बाद शव को सौंपा जाएगा। अब अस्पताल प्रबंधन कह रहा है कि सुखराम की सामान्य मौत होने की वजह से टेस्ट की आवश्यकता नहीं है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना