कोरबा। कैरोसीन टैंकर के परिचालक की लाश रक्तरंजित अवस्था में दर्री गोपालपुर स्थित इंडियन ऑयल कारपोरेशन के पास मिली है। मृतक के सिर व शरीर के अन्य हिस्सों में गंभीर चोट के निशान है। प्रथम दृष्टया ही इसे हत्या का मामला माना जा रहा। एक चश्मदीद भी पुलिस को मिला है, जिसने रात को पिटाई करते हुए एक चालक को देखा था। मृतक के परिजनों ने भी हत्या का आरोप लगाया है। करतला थानांतर्गत ग्राम सेंद्रीपाली निवासी बलिराम चंद्रा पिता सोमनाथ चंद्रा इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटेड (आइओसीएल) कंपनी में कैरोसिन टैंकर का परिचालक था। टैंकर क्रमांक सीजी 13 ए 7397 का चालक कबीर चौक रायगढ़ निवासी जयराम बरेठ के साथ टैंकर लेकर अन्य जिलों में सप्लाई के लिए जाता था।

गुरुवार की सुबह 7.30 बजे गोपालपुर स्थित इंडियन ऑयल कारपोरेशन के पास उसकी लाश रक्तरंजित अवस्था में मिली, उसके बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बलिराम के सिर, पैर व हाथ में चोट के गहरे निशान की पुष्टि हुई है। जिसकी वजह से पुलिस मान रही है कि बलिराम की मौत पिटाई से हुई है।

पुलिस को घटना की जानकारी देते हुए टैंकर चालक जयराम ने बताया कि बुधवार की रात को शराब के नशे में बलिराम का दूसरे टैंकर चालक के साथ विवाद हुआ था। किसी टैंकर चालक का शीशा टूटने से विवाद की स्थिति निर्मित हुई। उसने इस घटना को दूर से देखा।

मारपीट करने वाला चालक कौन था इसकी जानकारी उसे नहीं है। दूसरे दिन सुबह बलिराम की लाश पड़ी हुई मिली। परिजनों का आरोप है कि बलिराम की हत्या की गई है। पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। माना जा रहा है कि जल्द ही हत्या के इस मामले को सुलझा लिया जाएगा।

दस दिन में पिटाई से चार की मौत

चालक जयराम दूर से मारपीट की घटना को देखता रहा, लेकिन उसने पास जाकर छुड़ाने की बजाय वहां से खिसक गया। पुलिस को संदेह है कि चालक को आरोपित की जानकारी है। उससे भी पूछताछ की जा रही। गंभीर बात तो यह है कि दस दिन के अंदर इस तरह की यह चौथी घटना है। बुरी कदर पीटे जाने की वजह से चार लोगों की मौत हो चुकी है।

Posted By: Nai Dunia News Network