कोरबा, नईदुनिया प्रतिनिधि। करीब आठ माह पहले खेत समतलीकरण के नाम पर एसईसीएल के एक रिटायर्ड सुरक्षा अधिकारी से पांच लाख 40 हजार रुपये की ठगी करने वाले आरोपित को पुलिस ने राजस्थान के करौली से गिरफ्तार किया है। 12 एकड़ जमीन को समतल करने का आश्वासन देने के बाद आरोपित पᆬरार हो गया था।

मानिकपुर चौकी क्षेत्र के कदमहाखार में बालसाय पिता सैनाथ राय साय (60) निवासरत है। वे एक साल पहले ही एसईसीएल से सेवानिवृत्त हुए थे। उरगा थानांतर्गत भैसमा के पास आछीमार में उसकी 12 एकड़ जमीन है। खेती करने के लिए जमीन को समतल कराने वह कई लोगों से संपर्क किया था।

इस बीच 22 फरवरी 2019 को राजस्थान के ग्राम करौली में रहने वाला ओमप्रकाश मीणा पिता हल्केराम मीणा (36) अपने साथी के साथ बालसाय के पास पहुंचा और खेत समतलीकरण कराने की बात कही। बालसाय ने उसे अपना खेत भी दिखाया। आरोपित की चिकनी-चुपड़ी बातों में आकर उसे 40 हजार रुपये दे दिए।

जमीन समतलीकरण करने के लिए पांच लाख 40 हजार रुपये में सौदा तय हुआ था। दो दिन बाद युवक उसके पास पहुंचा और बालसाय को अपने झांसे में लेकर शेष रकम पांच लाख रुपये भी ले लिया। दूसरे दिन बालसाय के खेत पर दो जेसीबी मशीन लाकर आरोपित ने खड़ा कर दिया।

बालसाय जब खेत पहुंचा तो देखा कि जेसीबी मशीन खेत में खड़ी है, उसे लगा अब खेत समतलीकरण का काम शुरू हो जाएगा। कुछ देर बाद वह घर वापस चला गया। बाद में उसे पता चला कि जेसीबी उसे केवल दिखाने के लिए खड़ा किया गया था।

उसने पैसा वापस लेने ओमप्रकाश को फोन किया तो मोबाइल स्विच ऑपᆬ मिला। ठगी का अहसास होने पर उसने घटना की शिकायत मानिकपुर चौकी में दर्ज कराई। पुलिस आरोपित ओमप्रकाश के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्ध कर मामले की विवेचना कर रही थी। पुलिस की एक टीम राजस्थान के करौली से ओमप्रकाश को गिरफ्तार कर कोरबा ले आई है।