कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। केंद्रीय श्रम संगठन के संयुक्त तत्वावधान में गुरूवार को आयोजित देशव्यापी एक दिवसीय हड़ताल का औद्योगिक नगरी में असर पड़ेगा। नियमित एवं ठेका मजदूर मिलाकर 50 हजार से अधिक कामगार हड़ताल में शामिल होंगे। श्रमिक संघ प्रतिनिधियों ने अपने स्तर पर हड़ताल की तैयारी पूरी कर ली है। उधर प्रबंधन भी हड़ताल के दौरान आवश्यक सेवाएं बाधित न हो, इससे निपटने देर रात तक तैयारी करती रही। हड़ताल को लेकर श्रमिक संगठन दो गुट में बंटे है। ऐसे में शत- प्रतिशत सफलता पर सवालिया निशान लग गया है।

केंद्र सरकार की आर्थिक, जन व श्रम कानून में बदलाव के विरोध दस श्रमिक संघ प्रतिनिधि पिछले एक माह से हड़ताल की तैयारी कर रहे हैं। केंद्रीय मांग समेत स्थानीय स्तर के कुछ मुद्दों को भी अपनी मांग पत्र में शामिल कर एचएमएस, एटक, एसईकेएमसी इंटक सीटू व इंटक रेड्डी गुट के प्रतिनिधियों ने अपनी ताकत झोंक दी है। औद्योगिक जिला होने की वजह से यहां केंद्र, राज्य शासन, अर्द्धशासकीय व निजी उपक्रम में कार्यरत कर्मी हड़ताल में शामिल होंगे। सर्वाधिक असर साउथ इस्टर्न कोलफिल्ड लिमिटेड व बाल्को में पड़ने की उम्मीद जताई जा रही है। श्रमिक संघ प्रतिनिधि अपने क्षेत्र में हड़ताल करेंगे। इन श्रमिक नेताओं की कोशिश है कि प्रथम पाली से ही कोई भी कामगार ड्यूटी में न जा सके। आवश्यक सेवाओं को हड़ताल से बाहर रखा गया है। प्रबंधन ने भी आवश्यक सेवाओं के लिए कर्मियों की डूयूटी लगा दी है, इसके साथ ही रात्रि पाली में कार्य करने वाले कर्मियों को सुबह प्रथम पाली में रोका जाएगा, ताकि काम प्रभावित न हो सके। प्रबंधन ने आउटसोर्सिंग में लगी कंपनियों को काम में सहयोग करने आव्हान किया, ताकि उत्पादन प्रभावित न हो सके।

यह रहेंगे प्रभावित

0 एसईसीएल की कोयला खदानें , बाल्को प्लांट, तृतीय वर्ग कर्मचारी, कुछ बैंक , बीएसएनएल

यह आवश्यक सेवाएं रहेंगी जारी

चिकित्सा, पानी आपूर्ति, बिजली, खदान व प्लांट में आवश्यक कार्य।

सुबह पांच बजे से होगा आंदोलन

श्रमिक संघ प्रतिनिधियों की कोशिश है कि प्रथम पाली से ही दबाव बनाया जाए, ताकि हड़ताल पूरी तरह सफल हो सके। इसलिए सभी श्रमिक संघ प्रतिनिधि सुबह से ही हड़ताल सफल बनाने जुट जाएंगे। खदान व बाल्को में हड़ताल गुरूवार की सुबह पांच बजे से शुरू हो जाएगी। ड्यूटी टाइम अलग-अलग होने की वजह से आंदोलनकारी भी समय अनुसार एकत्र होकर विरोध जताएंगे। मानिकपुर में सुबह पांच बजे से पहली शिफ्ट शुरू होती है, तो दूसरी तरफ गेवरा, कुसमुंडा, दीपका खदान में छह बजे, भूमिगत खदानों में आठ बजे तथा बाल्को में सुबह छह बजे से प्रथम पाली शुरू होती है।

बीएमएस व एनएफआइटीयू रहेगी बाहर

हड़ताल में एचएमएस, सीटू, एसईकेएमसी इंटक, एटक व इंटक (रेड्डी गुट) समेत स्थानीय स्तर की श्रमिक संगठन शामिल रहेंगी, तो दूसरी तरफ भारतीय मजदूर संघ व नेशनल फ्रंट इंडियन ट्रेड यूनियन एनएफआइटीयू हड़ताल में शामिल नहीं होंगी। एनएफआइटीयू राष्ट्रीय अध्यक्ष दीपक जायसवाल ने कहा है कि देशव्यापी हड़ताल में यूनियन शामिल नहीं होगी और न ही दीगर श्रमिक संगठनों का हड़ताल का समर्थन नहीं करेगी। क्योकि यह हड़ताल राजनीतिक लाभ से प्रेरित है। इससे श्रमिकों का हित से कोई सरोकार नहीं है।

पुलिस की रहेगी चाक चौबंद व्यवस्था

हड़ताल को लेकर पुलिस भी सतर्क है। अलग-अलग पेट्रोलिंग की टीम तैयार की गई है, जो खदान क्षेत्रों के साथ ही अन्य स्थल पर हड़ताल से जुड़ी गतिविधियों पर नजर रखेगी। सभी थाना- चौकी प्रभारियों को भी अपने- अपने क्षेत्र में निगरानी रखने कहा गया है। इसके साथ ही पृथक पेट्रोलिंग टीम भी रहेगी, जो सभी क्षेत्रों का भ्रमण करेगी। हड़ताल में शामिल यूनियन से आव्हान किया गया है कि किसी तरह की अप्रिय स्थिति निर्मित न हो, इसलिए जो कामगार ड्यूटी में जाना चाहते है, उन्हें जबरन रोकने का प्रयास न किया जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस