कोरबा। महिलाओं को लेकर की गई टिप्पणी से नाराज जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ की महिला विंग ने ट्रांसपोर्ट नगर चौक में विरोध प्रदर्शन करते हुए सांसद डॉ. बंशीलाल महतो का पुतला फूंका। इस मुद्दे को कांग्रेस ने भी अब लपक लिया है।

महिला कांग्रेस की ओर से विरोध दर्ज कराते हुए कहा गया है कि भाजपा के शीर्ष स्तर पर दी जा रही नसीहत का उनके नेताओं पर कोई असर नहीं हो रहा। खासतौर पर महिलाओं के साथ किस तरह का व्यवहार करना चाहिए, इसका भी सलीका नहीं है।

15 ब्लॉक में दो अक्टूबर को दंगल में बतौर अतिथि सांसद डॉ. बंशीलाल महतो ने कहा था कि अब मुंबई और कोलकाता की बालाओं की जरूरत नहीं, कोरबा समेत छत्तीसगढ़ की लड़कियां व महिलाएं टनाटन हो गई हैं।

हालांकि डॉ. महतो ने यह बात कहते हुए साथ में यह भी जोड़ा कि ऐसा हमारे खेल मंत्री भैय्यालाल राजवाड़े मजाक में कहते हैं। यह बात जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के नेताओं को नागवार गुजर रही।

सोमवार को ही जनता कांग्रेस की महिला विंग की प्रदेश महासचिव अर्चना उपाध्याय ने ऐलान कर दिया था कि सांसद डॉ. महतो अपने दिए बयान पर माफी मांगे, वरना प्रदर्शन किया जाएगा। मंगलवार को टीपी नगर चौक में कार्यकर्ता जुटे और नारेबाजी करते हुए सांसद का पुतला फूंकने का प्रयास किए।

इस बीच सिविल ड्रेस में घात लगाए बैठा एक आरक्षक पलक झपकते ही पुतला छीनकर भाग निकला। महिलाओं के हाथ में पुतला का कुछ हिस्सा ही बचा, उसे ही जलाकर सांकेतिक रूप से विरोध जताया।

इस मौके पर पार्टी की महिला विंग की अनारकली भार्गव, देवकली साकेत, लोकेश्वरी भारद्वाज, कौशिल्या सोनी, आशा शर्मा, भुनेश्वरी चौहान, अनिता, निर्मला यादव, साबिना बानो, सरस्वती, कृष्णा विश्वकर्मा, धनबाई चौहान, नेहा, लता गुप्ता, कमलेश्वरी साहू, अक्ती बाई, अधनबाई महंत, लक्ष्‌मी बाई समेत पदाधिकारी ने सांसद डॉ. बंशीलाल की टिप्पणी पर घोर आपत्ति जताते हुए कहा कि यह बयान अशोभनीय है और इसके लिए उन्हें सभी महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए।

आखिर सीएम कार्रवाई क्यों नहीं करते : अमित

जनता कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मरवाही विधायक अमित जोगी ने कहा कि भाजपा सांसद का बयान पूरी पार्टी की महिला विरोधी मानसिकता को दर्शाता है। राज्य के मंत्री भी खुलेआम महिला विरोधी बयान देते हैं और मुख्यमंत्री मूकदर्शक बने रहते हैं।

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाली पार्टी की असलियत आज उनके सांसद ने दर्शा दी है। पूर्व में भी राज्य के मंत्री विशेष कर भैय्यालाल राजवाड़े और अजय चंद्राकर अपने बयानों से पार्टी की इस असलियत को दर्शाते आए हैं।

उन्होंने मुख्यमंत्री से सवाल किया कि उनकी आंखों के सामने इतना सब कुछ होने के बाद भी वे अपने मंत्रियों पर कार्रवाई क्यों नहीं करते? श्री जोगी ने पूरी भाजपा से मांग की है कि प्रदेश की समस्त महिलाओं से वे तत्काल क्षमा याचना करें।

भाजपा नेताओं को रिफ्रेशर कोर्स की आवश्यकता

महिला कांग्रेस ने कहा कि सांसद डॉ. महतो ने सत्ता के नशे में चूर होकर छत्तीसग़ढ़ की बेटियों और महिलाओं के संबंध में जो शब्द कहे हैं, वह पूरी तरह अक्षम्य है। महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान को लेकर ढोल पीटने वाली भाजपा के बड़े नेताओं को अपने उन पदाधिकारियों को रिफ्रेशर कोर्स लेने के लिए योजना बनानी चाहिए, जिनके बोल अक्सर बिगड़ जाते हैं।

वरिष्ठ नेत्री उषा तिवारी, जिलाध्यक्ष सपना चौहान, संगीता सक्सेना, कुसुम द्विवेदी, रेखा त्रिपाठी समेत सभी महिला नेत्रियों ने कहा कि सांसद के विचारों से यही कहा जा सकता है कि उच्च स्तर से दी जा रही सीख का उन पर कोई असर नहीं हो रहा है। कम से कम जनप्रतिनिधि बनने के बाद वे अपने तौर तरीके में सुधार करते।