कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राम हमारे प्रेरणा हैं। उनकी जीवनगाथा हमारे देश की संस्कृति में समाहित है। भय और अशांति से जूझ रहे मनुष्य के कल्याण के लिए गोस्वामी तुलसीदास ने राम चरित मानस की रचना की है। राम चरित मानस सामान्य ग्रंथ नहीं बल्कि सभी शास्त्रों और ग्रंथो का निचोड़ है।

यह बात रामकथा वाचक मंदाकिनी दीदी ने शहर आगमन के दौरान कही। दीदी शनिवार से राजीव गांधी इंडोर ऑडिटोरियम में रामकथा वाचन आयोजन समिति की ओर से आयोजित रामकथा में कथा वाचन करने पहुंची हैं। उन्होंने बताया कि यह उनका सौभाग्य है कि वह अयोध्यापति राम के ननिहाल प्रदेश में उनकी कथा व्याख्यान करने पहुंची हैं। पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा किपर्यावरण संरक्षण के प्रति लोगों को सजग होना होगा। मनुष्य विकास के नाम पर जिस तरह से प्रकृति के नियम के विरूद्घ कार्य कर रहा है वह उसके लिए विनाश का कारण बन रहा है। उन्होंने बताया कि विचारों की संकीर्णता से लोगों में दूरियां बढ़ रही है। इस संकीर्णता को दूर करने के लिए युवा पीढ़ी को जागरूक करना होगा। हमारे सनातन धर्म में संस्कारों की जिस तरह की बातें कहीं गई है उसका युवाओं को अनुशरण करने होगा। उन्होंने बताया कि मानव जीवन में 16 संस्कार होते हैं। धर्म विरूद्घ आचरण से नैतिक पतन शुरू हो जाती है। धर्माचार्यों में हो रहे नैतिक पतन के बारे में उन्होंने कहा कि यह चिंता का विषय है। राजनीति को धर्म का ही एक अंग बताते हुए उन्होंने कहा कि सच्ची राजनीति लोगों में आपसी मतभेद कभी उत्पन्न नहीं करता। समता से समाज की सेवा भाव की शिक्षा राजनीति को धर्म से मिलती है। वर्तमान में चल रहे कोरोना वायरस के बारे में उन्होंने कहा कि चीन अपने कर्म की सजा भुगत रहा है। प्रभु की कृपा रही तो कोरोना वायरस का संक्रमण देश में नहीं होगा। सूर्य देवता कोरोना का नाश करेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना