कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के मध्य स्थित रानी धनराज कुंवर स्वास्थ्य केंद्र (धर्म अस्पताल) में एक युवक में दो लोगों ने प्राणघातक हमला कर दिया। बचाने का प्रयास करने पर अस्पताल स्टाफ पर ही बदमाशों ने हमला कर दिया। स्टाफ ने कमरे में बंद कर अपने आपको बचाया। घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस पहुंची, तब आरोपित भाग गए। नाराज अस्पताल कर्मी विरोध में ओपीडी बंद कर दिया और धरना में बैठ गए। इस दौरान सुरक्षा की मांग करने लगे।

कोतवाली से महज सौ मीटर की दूरी पर स्थित रानी धनराज कुंवर देवी अस्पताल शहर का सबसे पुराना अस्पताल है। गुरूवार की सुबह अस्पताल में सभी कर्मी काम कर रहे थे, तभी वहां इलाज कराने एक घायल युवक पहुंचा। स्टाफ उसका इलाज करते इसके पहले ही दो युवक अस्पताल पहुंच गए और उस पर हमला कर बेरहमी से पीटा। इस पर अस्पताल स्टाफ ने बीच बचाव करते हुए युवक को मारने से मना किया। नाराज बदमाशों ने उन्हें धमकाते हुए दूर रहने कहा। अस्पताल की नर्सों और स्टाफ ने हस्तक्षेप किया तो उन्हें भी मारने के लिए दौड़ाया गया। सभी घबराकर एक कमरे में बंद हो गए। जानकारी मिलने पर बीएमओ डा दीपक राज को अस्पताल पहुंचे। जहां अस्पताल परिसर में मारपीट कर रहे युवकों को बीच बचाव किया, तो बदमाशों ने उन्हें भी मारने के लिए दौड़ाया। डर कर डा राज ने अस्पताल से बाहर भाग कर चौहान फोटो स्टूडियों की गली में छिपकर अपनी जान बचाई। मामले की सूचना डायल 112 पुलिस को दी गई। स्थल पर पुलिस पहुंची, तब तक बदमाश भाग खड़े हुए थे। दिन दहाड़े अस्पताल में हुई इस दहशतगर्दी से कर्मियों के साथ आमजनों में भी नाराजगी व्याप्त हो गई। बाद में कर्मियों ने ओपीडी बंद कर अस्पताल के बाहर धरना दिया और सुरक्षा की मांग की। कोतवाली नगर निरीक्षक राजीव श्रीवास्तव ने बताया कि हंगामा करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। दोनों पक्षों के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा उत्पन्ना करने व मारपीट करने पर धारा 294, 506, 323, 186, 353 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है।

क्या है पूरा मामला

पुरानी बस्ती निवासी मुन्नाा यादव व शफीक खान बस स्टैंड में एजेंट का काम करते हैं। गुरूवार की सुबह एक साथ शराब पीने के दौरान इनके मध्य किसी बात को लेकर विवाद हो गया। मामला बढ़ कर हाथापाई तक पहुंच गया। पुरानी बस्ती क्षेत्र में मारपीट होने के बाद दोनों पुराना बस स्टैंड पहुंच गए। यहां भी दोनों के मध्य पुनः मारपीट हुई। घायल सफीक खान इलाज कराने के लिए रानी धनराज कुंवर देवी अस्पताल पहुंचा। अभी उसका इलाज शुरू होता है कि इसके पहले मुन्नाा यादव अपने साथी के साथ अस्पताल में घुसा और घायल को मारना शुरू कर दिया। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि इस पूरे घटनाक्रम के दौरान अस्पताल के बाहर एक कार आकर रुकी जिसमें से एक युवक कुल्हाड़ी लहराते हुए बाहर निकला था लेकिन फिर वे लोग भाग गए।

सुरक्षा कर्मियों की भी व्यवस्था नहीं

अस्पताल में नशे में धुत लोगों द्वारा आए दिन दहशत फैलाया जाता है, इससे अस्पताल का पूरे स्टाफ में भय का माहौल बना रहता है। जान माल की सुरक्षा को लेकर इनमें भय व्याप्त है। गुरुवार की घटना को लेकर स्टाफ ने ओपीडी बंद कर अस्पताल परिसर में प्रदर्शन शुरू कर दिया है। डा दीपक राज ने कहा कि शाम पांच से सुबह नौ बजे तक यहां सुरक्षा के लिए गार्ड की व्यवस्था होनी चाहिए। वैसे भी अक्सर शाम से रात के वक्त नशे में धुत लोग यहां आकर इलाज कराने के साथ उत्पात भी मचाते हैं लेकिन सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close