कोरबा । छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत कंपनी की हसदेव थर्मल पावर प्रोजेक्ट (एचटीपीपी) के लिए बिछाई गई कन्वेयर बेल्ट सिस्टम में तकनीकी खराबी आने से कोयला आपूर्ति बाधित हो गया है। शार्ट सर्किट की वजह बेल्ट लाइन का मोटर जल गया। मोटर की उपलब्धतता को लेकर अभी संशय की स्थिति है। सुधार में एक माह के समय लगने का अनुमान है। यदि मोटर नहीं मिला तो स्वीवडन से मंगाना होगा।

राज्य पावर जनरेशन कंपनी के एचटीपीपी प्लांट के लिए कुसमुंडा खदान से कन्वेयर बेल्ट लाइन के माध्यम से कोयले की आपूर्ति होती है। इसके लिए प्लांट से खदान तक के लिए माध्यम बना है। इसी कन्वेयर बेल्ट के एक लाइन में 12-सी के पास बेल्ट को चलाने वाला ड्रायवर मोटर जल गया। देर रात करीब दो बजे यह घटना हुई। मोटर जलने की वजह से कन्वेयर बेल्ट के एक लाइन से कोयला अपूर्ति बाधित हो गया। इससे प्रबंधन की परेशानी बढ़ गई। मामले में एचटीपीपी प्रबंधन का कहना है कि कन्वेयर बेल्ट चलाने के लिए वितरण विभाग के 33 केवी फीडर से बिजल आपूर्ति होती है। इस लाइन में रात के समय जर्क आने की वजह से एक लाइन में कोल आपूर्ति प्रभावित हुई है, लेकिन दो अन्य लाइन में कोयला आपूर्ति हो रही है। इसका सुधार शीघ्र ही कर लिया जाएगा। बीएमएस नेता व राष्ट्रीय श्रमिक शिक्षा बोर्ड के चेयरमेन आरएस जायसवाल ने बताया कि कन्वेयर बेल्ट लाइन के रखरखाव व संचालन में लापरवाही के कारण मोटर जलने की घटना हुई है। इससे कोयला आपूर्ति पर असर पड़ा है। जिससे कंपनी को नुकसान हुआ है। इसकी मशीन विदेश से मंगानी पड़ सकती है। इस वजह से इसमें समय लगेगा। प्रबंधन के संबंधित कंपनी के खिलाफ उचित कार्रवाई करनी चाहिए। इससे सभी का काम प्रभावित हुआ है।

डीएसपीएम की एक इकाई शुरू, दूसरे की संभावना आज

उधर आकाशी बिजली गिरने की वजह से डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (डीएसपीएम) की 250-250 की दो इकाई एक साथ बंद हो गई। इसके साथ ही पूरा संयंत्र ब्लेक आउट हो गया। मंगलवार को दोपहर एक नंबर इकाई को मरम्मत कर किसी तरह प्रारंभ किया गया। दो नंबर इकाई का मरम्मत कार्य अभी भी चल रहा है। बुधवार तक इसकी शुरूआत होने की संभावना जताई जा रही। आकाशी बिजली की वजह से कोरबा पूर्व व पश्चिम की ट्रांसमिशन लाइन पर असर पड़ा। इन दोनों लाइन में जर्क की वजह से इकाईयां बंद हो गई। यहां बताना होगा कि वर्षा की वजह से प्रदेश में 4000 मेगावाट तक रही। इसलिए राज्य में बिजली संकट की स्थिति नहीं हुई।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close