कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। 26 जनवरी को आयोजित गणतंत्र दिवस के अवसर पर पंच-सरंपच गांव के स्कूल में ध्वजारोहण नहीं कर सकेंगे। आदर्श आचार संहिता लागू होने से इसका निर्वहन संस्था प्रमुख हेडमास्टर अथवा प्राचार्य करेंगे। इसी तरह ग्राम पंचायत भवन में ग्राम सचिव ध्वज पᆬहराएंगे।

आमतौर पर गांव के स्कूलों में राष्ट्रीय पर्व के अवसर पर ध्वजारोहण गांव के ही पंच अथवा सरपंच ही करते हैं। गांव के मुखिया होने के नाते मुख्य अतिथि के तौर पर उन्हें आमंत्रित किया जाता था। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता लागू होने के कारण इस बार पंच-सरपंच मुख्य अतिथि नहीं बन पाएंगे। इसके लिए जिला शिक्षा विभाग ने संस्था प्रमुखों को दिशा निर्देश जारी कर दिया गया है। स्कूल में किसी भी राजनैतिक दल से जुड़े व्यक्ति को संस्था की ओर से निमंत्रण नहीं दिया जाना है। इसके अलावा उद्बोधन में किसी भी प्रकार से दलगत प्रचार-प्रसार नहीं किया जाना है। न ही किसी विद्यालय अथवा गांव के किसी कार्य के लिए घोषणा की जा सकेगी। स्कूलों में सादगी पूर्ण आयोजन में ध्वजारोहण का निर्वहन संस्था प्रमुख ही करेंगे। अन्य कार्यक्रम जैसे बच्चों को सांस्कृतिक कार्यक्रम, पीटी, जुलूस का आयोजन यथावत रहेगा। शिक्षा विभाग की ओर से जारी दिशा निर्देश में इस बात का भी उल्लेख किया गया है, ध्वजारोहण के पहले यह सुनिश्चित किया जाए कि वह उल्टा न हो। साथ ही निर्धारित समय में ध्वज को निकाल स्कूल में सुरक्षित रखने के लिए शिक्षकों दायित्व दिया जाए।

स्कूलों में ध्वजारोहण संस्था प्रमुख हेडमास्टर या प्राचार्य करेंगे। सभी स्कूलों में संस्था प्रमुख को आदर्श आचार संहिता पालन करने का निर्देश दिया गया है।

- सतीश कुमार पांडेय, डीईओ

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket