कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्तीसगढ़ राज्य कृषक कल्याण मंडल के सदस्य अमन पटेल समेत 60 लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराया गया है। इन पर आंदोलन व प्रदर्शन के दरम्यान सरकारी काम में बाधा पहुंचाने का आरोप है।

एसईसीएल की मानिकपुर खदान में 20 जनवरी को दोपहर करीब तीन बजे छत्तीसगढ़ राज्य कृषक कल्याण मंडल के सदस्य अमन पटेल की अगुवाई में अरुण यादव व अन्य साथियों के साथ नारायणी कैंप के सामने जाकर बैठ गए। इससे कोयला आवागमन के रास्ता अवरूद्ध हो गया। प्रदर्शन के कारण कोयला उत्पादन, परिवहन तथा ओवर बर्डन का कार्य प्रभावित हुआ। इस मामले में प्रबंधन की ओर से एफआईआर दर्ज कराया गया है।

उपक्षेत्रीय प्रबंधक हरिकृष्ण प्रधान द्वारा लिखित शिकायत कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, एसडीएम, कोतवाली टीआई, महाप्रबंधक एसईसीएल कोरबा व अन्य को सौंपा है। इसमें कहा गया है कि अमन पटेल, अरुण यादव समेत 50 लोगों द्वारा आवागमन अवरुद्ध कर शासकीय कार्य में बाधा उत्पन्ना किया गया। एसईसीएल केंद्र सरकार के अंतर्गत कोयला उत्पादन करने वाला सार्वजनिक उपक्रम है। वर्तमान में कोयला देश के लिए ऊर्जा सुरक्षा की सबसे महत्वपूर्ण पूंजी है। कोयले से उत्पादित विद्युत ही देश के अधिकांश उद्योगों के संचालन में प्राणवायु का काम करता है। इसलिए कोयला उत्पादन पर पड़ने वाला किसी भी प्रकार का अवरोध एवं कुप्रभाव देश की अर्थव्यवस्था को प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करता है।

मानिकपुर परियोजना के उत्पादन व प्रेषण कार्य के लिए कानून व शांति व्यवस्था बनाए रखने व सुरक्षा के लिए उचित कार्रवाई की मांग की। पुलिस ने इस मामले में अमन पटेल, अरुण यादव समेत 50 लोगों के विरुद्ध धारा 147, 341 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close