कोरबा। नईदुनिया प्रतिनिधि

शासन ने सरकारी अस्पतालों में रैबीज का इंजेक्शन निःशुल्क कर रखा है। पर यह सुविधा तब काम की है, जब जरूरत पड़ने पर दवा समय रहते मिल जाए। सरकारी दावे और लोगों की अपेक्षा के विपरीत रानी धनराज कुंवर अस्पताल में रैबीज का इंजेक्शन उपलब्ध ही नहीं है। इस बात का खुलासा तब हुआ, जब रविवार को कुछ बच्चों को आवारा कुत्ते के काटने पर परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे। उनका आरोप है कि जब बच्चों के लिए रैबीज की जरूरत बताई गई तो स्वास्थ्य विभाग के दावों के विपरीत अस्पताल में दवा नहीं होने की बात कहते हुए स्वास्थ्यकर्मियों ने हाथ खड़े कर दिए।

रविवार को सामने आया यह मामला सुनालिया नहर चौक से स्टेशन की ओर जाने वाले मार्ग स्थित संजयनगर बस्ती का है। रविवार की छुट्टी पर घर के बाहर कुछ बच्चे खेल रहे थे। तभी कहीं से एक आवारा कुत्ता घूमते हुए आया और वहां खेल रहे बच्चों पर टूट पड़ा। चीखने की आवाज आई तो बस्ती के लोग मदद के लिए आए और कुत्ते को भगाया गया। घटना में घायल हुए बच्चों को लेकर परिजन तत्काल रानी धनराज कुंवर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। परिजनों का कहना था कि इलाज तो शुरू हुआ पर ऐसे आपात समय में सबसे जरूरी रैबीज का इंजेक्शन उपलब्ध नहीं होने की बात स्वास्थ्यकर्मियों ने कही। इस बात पर परिजनों ने जमकर नाराजगी व्यक्त की। उल्लेखनीय होगा कि हाल ही में स्वास्थ्य विभाग ने सभी सरकारी अस्पतालों में रैबीज की दवा का पर्याप्त स्टॉक होने का दावा किया था, जो इस घटना से खोखला साबित होता दिखाई दे रहा है। इस मामले में जानकारी लेने कोरबा बीएमओ डॉ. दीपक राज पर मोबाइल पर कॉल किया गया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।