कोरबा। नईदुनिया न्यूज

डॉ. बाबा साहब अंबेडकर ओपन ऑडिटोरियम में डॉ. भीमराव अंबेडकर का 64वां महापरिनिर्वाण दिवस सिद्धार्थ लोक कल्याण समिति, अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार संगठन, मूलनिवासी मुक्ति मोर्चा और अन्य संगठनों के संयुक्त तत्वावधान में मनाया गया।

कार्यक्रम के संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि प्रदेश के मुख्यमंत्री के पिता नंदकुमार बघेल ने कहा कि देश की एकता, अखंडता, आरक्षण सब कुछ खतरे में है, क्योंकि देश का संविधान ही खतरे में है। हम सबको मिलकर आज संविधान की रक्षा के लिए अपनी जान की बाजी लगानी होगी। यही बाबा साहब के महापरिनिर्वाण का सही संकल्प होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मूलनिवासी मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष गोपाल ऋषिकर भारती ने कहा कि अब वक्त आ चुका है कि सब देश और समाज की रक्षा के लिए किसी देवता या नेता की बिना परवाह किए सड़क पर हमारे साथ उतरें। हमारा नारा है कुछ तो करो जिनगानी में आग लगा दो पानी में। कार्यक्रम के विशेष अतिथि कुर्मी समाज के राष्ट्रीय संरक्षक आरके सिंह, डॉ. हमीदुल्ला खान, सूर्यवंशी समाज के अध्यक्ष डॉ. जयपाल सिंह, मूलनिवासी मुक्ति मोर्चा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रश्मि सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष लता बौद्ध, प्रदेश सचिव सुजाता बौद्ध, अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार संगठन के संयुक्त सचिव नीलम सोनी, सचिव मुकुंद गुप्ते, मूलनिवासी मुक्ति मोर्चा के प्रदेश महासचिव आरएल मनहर, जिला अध्यक्ष अंजुला सोनवानी, माधुरी धु्रव, प्रदीप मरकाम, मधु चौहान, भीम रेजीमेंट के अनिल टंडन, सतपाल दास, प्रमोद सक्सेना, कमल टंडन, काशी के साथ बड़ी संख्या में महिलाएं, अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे। मुख्य अतिथि बघेल ने सभी को संविधान की उद्देशिका की शपथ दिलाई।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket