कोरबा(नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में एक मात्र सीताममढ़ी घाट संचालन से रेत की किल्लत और चोरी दोनों जारी है। साल बीत जाने के बाद भी दूसरा रेत घाट की तलाश पूरी नहीं हुई है। 25 दिन बाद 15 जून से सभी रेतघाटों में पर्यावरण संरक्षण नियम के अनुसार उत्खनन पर प्रतिबंध लग जाएगा। घाट बंद होने की निकटता को देखते अवैध भंडारण की कवायद तेज हो गई। शहर किनारे नदी के मुहाने में अवैध उत्खनन और मिट्टी कटाव से बारिश के दौरान शहर के बस्तियों में बाढ़ के पानी भरने की संभावना बढ़ गई है।

सर्वेश्वर एनीकट के अस्तित्व में आने के दो साल पहले शहर में एक साथ दो घाटों का संचालन हो रहा था। गेरवाघाट में एनीकट बनने के बाद एक मात्र सीतामढ़ घाट ही चल रहा, जो शहरवासियों के लिए पर्याप्त नहीं है। एक मात्र घाट संचालन के कारण शहर भिलाईखुर्द से लेकर सुमेधा, धनगांव, घमोटा से रेत की धड़ल्ले चोरी हो रही। अवैध घाट संचालन के कारण नदी तट से मिट्टी का कटाव बढ़ गया है। ऐसे में नदी किनारे बसाहटों में बाढ़ की संभावना बढ़ गई है। अवैध उत्खनन में रेत माफियाओं ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। 15 जून से घाटों में प्रतिबंध लग जाएगा। माना जा रहा है कि इस बार मानसून की सक्रियता 13 जून से ही बढ़ जाएगी। ऐसे माफियाओं की सक्रियता अवैध संग्रहण के लिए तेज हो गई है। नदी व नालों में जल प्रवाह लगभग बंद हो चुका है। ऐसे में वाहनों को नदी के भीतर ले जाने में सुविधा हो रही। शाम होते ही माफियाओं की सक्रियता बढ़ जाती है।

मुख्यमंत्री की ट्विट के बाद चार दिनों तक चली कार्रवाई

बढ़ती रेत चोरी और किल्लत को देखते हुए जनवरी माह में मुख्यमंत्री ने ट्विट कर कहा था कि रेत के अवैध उत्खनन व परिवहन के लिए कलेक्टर व एसपी जिम्मेदार होंगे। इसके बाद जिले भर कार्रवाई का दौर शुरू हो गया है। फरवरी और मार्च के बीच खनिज व पुलिस विभाग से 96 वाहन चालकों कार्रवाई हुई थी। अब यह बीते दिनों की बात हो चुकी है। घाटों से अवैध परिवहन करने वाले तस्करों की सक्रियता बढ़ गई है, वहीं खनिज विभाग की कार्रवाई ठप है।

कोयला के सामने गौण हुआ गौण खनिज

जिले में उत्खनन हो रहे मुख्य खनिज के सामने गौण खनिज इन दिनों गौण हो गया है। खदानों से खुले आम वृहत मात्रा में रेत ले जाते हुए ग्रामीणों का वीडियों वायरल होने के बाद प्रशासन ने अपनी पूरी ताकत मुख्य खनिज की चोरी रोकने में झोंक दी थी। ऐसे में रेत चोरी मामलें में कार्रवाई ठप हो गई है। तस्करों के लिए यह अवसर साबित हो रहा है। शहरी के अलावा उपगरीय व ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध संग्रहण कराया जा रहा है।

वर्जन

15 जून सभी रेतघाट बंद हो जाएंगे। सर्वेश्वर एनीकट के नीचे दूसरे रेतघाट का संचालन प्रस्तावित है। पर्यावारणीय अनुमति के अभाव में घाट शुरू नहीं हुआ है। अवैध उत्खनन और परिवहन पर कार्रवाई जारी है।

एसएस नाग, जिला खनिज अधिकारी

------------

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close